नई दिल्ली: बसपा प्रमुख मायावती ने शनिवार को दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भीम आर्मी के चंद्रशेखर के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है, जिसमें उन्होंने मायावती को प्रधानमंत्री के रूप में समर्थन देने की बात कही थी। मायावती ने कहा कि भीम आर्मी और बहुजन यूथ फॉर मिशन 2019 जैसे संगठन विपक्ष के इशारों पर भोले-भाले लोगों को बहकाने का काम कर रहे हैं। ऐसे संगठन बसपा के बढ़ते कदम में रोड़ा हैं।

मायावती ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान कहा,” हमें ये पता चला था कि कुछ फर्जी संगठन जैसे ‘भीम आर्मी’ और ‘बहुजन यूथ फॉर मिशन 2019 – अगला पीएम बहन जी’ बसपा के खिलाफ काम कर रहे हैं। ये संगठन दलित समर्थकों के पास जा रहे हैं और उनसे गलत तरीके से पैसे की वसूली कर रहे हैं। वे उनसे कह रहे थे कि वे मुझे प्रधानमंत्री बनाने के लिए रैलियों में हिस्सा लें।”

यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा,”वे दलितों के सामने ऊंची जाति के लोगों के विरुद्ध बोलकर उनके दिमाग में नफरत फैला रहे थे। वे ऐसा इसलिए कर रहे थे ताकि ऊंची जाति के लोगों को बसपा में शामिल होने से रोक सकें।” मायावती ने कहा, ”इसी योजना के हिस्से के तौर पर, दलित विरोधी तत्वों ने मेरी हत्या करने की साजिश रची थी। हमारी सजगता और संसाधनों के कारण उनकी योजना सफल नहीं हो सकी। मैंने राज्य सभा में अपने पद से इस्तीफा देने का फैसला ही इसलिए किया क्योंकि मुझे संसद में ये मामला उठाने की अनुमति नहीं दी गई थी।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

chandrashekhar 1496916372 835x547

मायावती ने कहा,” मैं दलित समुदाय से प्रार्थना करना चाहती हूं कि वे ऐसे राजनीतिक संगठनों के प्रभाव में न आएं और उनके उम्मीदवारों को वोट देकर अपने वोट बर्बाद न करें। पिछले साल दिल दहला देने वाला शब्बीरपुर कांड यूपी में दलितों के खिलाफ हुआ था।”

पिछले साल 2017 में यूपी के सहारनपुर में जा​तीय हिंसा भड़क उठी थी। इस हिंसा में एक शख्स की मौत हो गई थी। जबकि 16 अन्य लोग घायल हो गए थे। घायलों में उत्तर प्रदेश पुलिस का एक हेड कांस्टेबल भी शामिल था। ये झड़प बीते 5 मई, 2017 को हुई थी।

Loading...