पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों के आधिकारिक रूप से सामने आने के बाद स्पष्ट हो गए है कि एमपी-राजस्थान में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नही मिला है। दोनों ही राज्यों में कांग्रेस बहुमत दूर रह गई है। ऐसे में अब बसपा प्रमुख मायावती ने कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा की है।

मायावती ने कहा कि परिणाम यह दिखाते हैं कि राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश सरीखे राज्यों में लोग पूरी तरह से बीजेपी के खिलाफ थे। मायावती ने कहा कि कई मुद्दों पर हमारे और कांग्रेस के विचार एक नहीं हैं लेकिन हम उन्हें समर्थन देंगे। उन्होंने कहा कि अगर राजस्थान में जरूरत पड़ी तो बसपा वहां भी कांग्रेस को समर्थन देगी।

Loading...

मायावती ने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस ने SC-ST वर्ग का उद्धार नहीं किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज में दलितों का भला नहीं हुआ इसलिए हमने बीएसपी बनाई। इस दौरान उन्होंने कहा कि बीएसपी ने कांग्रेस और बीजेपी, दोनों से मुकाबला किया है। मायावती ने लखनऊ में प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि न चाहते हुए भी जनता ने कांग्रेस को चुना।

congres

बता दें कि एमपी में कांग्रेस पार्टी को 114, बीजेपी को 109, बीएसपी को 2, समाजवादी पार्टी को 1 सीट तथा 4 निर्दलीय चुनाव जीते हैं। कांग्रेस राज्य में बड़ी पार्टी बनकर तो उभर गई है, मगर वह बहुमत का जादुई आंकड़ा नहीं छू पाई। कांग्रेस बहुमत के आंकड़े से दो सीटें दूर रह गई।

वहीं कांग्रेस ने भाजपा को पटखनी देते हुए 99 सीटों का आंकड़ा छू लिया। हालांकि कांग्रेस को बहुमत के लिए 101 सीटें चाहिए। सूबे में भाजपा को 73 सीटें ही मिल सकीं। यहाँ पर भी कांग्रेस बहुमत के आंकड़े से दो सीटें दूर रह गई।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें