छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए मायावती की बीएसपी ने अजीत जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस (छत्तीसगढ़-जे) के साथ गठबंधन किया है। समझौते के तहत 90 में से 35 सीटों पर BSP और 55 सीटों पर अजीत जोगी की पार्टी लड़ेगी।

मायावती ने कहा कि छत्तीसगढ़ में बसपा 35 और जनता कांग्रेस पार्टी 55 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि अगर हम चुनाव जीतते हैं तो अजीत जोगी मुख्यमंत्री बनेंगे। मायावती ने कहा कि गठबंधन को लेकर उनकी राय स्पष्ट है कि उनकी पार्टी किसी भी दल के साथ तभी गठबंधन करेगी, जब उसे समझौते के तहत सम्माजनक संख्या में सीटें मिलें। साथ ही उसकी सोच बसपा की ‘सर्वजन हिताय, सर्वजन सुखाय’ की सोच से भी मेल खाती हो।

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने इन दोनों बातों पर गंभीरता से गौर करने के बाद छत्तीसगढ़ में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के साथ गठबंधन करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के लिए दोनों पार्टियां संगठित चुनाव अभियान चलाएंगी, जिसकी रूपरेखा जल्द ही तैयार कर ली जाएगी। कुछ ही दिनों में वहां दोनों पार्टियों की संयुक्त रैली होगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

screenshot 1

बसपा प्रमुख ने ये भी कहा कि उनकी पार्टी तथा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ही भाजपा को छत्तीसगढ़ में रोकने में सक्षम है, लेकिन अगर कुछ और क्षेत्रीय पार्टियां हमारे साथ मिलकर चुनाव लड़ना चाहेंगी, तो हम उनका भी सहयोग लेंगे।

मायावती ने कहा कि जहां तक छत्तीसगढ़ का सवाल है तो वहां पिछले 15 साल से भाजपा की सरकार है। वहां उसने दलितों, गरीबों और आदिवासियों के लिए कोरी घोषणाओं के सिवा और कोई काम नहीं किया है। उनका तथा अजीत जोगी दोनों का ही मानना है कि राष्ट्रीय स्तर पर छत्तीसगढ़ की उपेक्षा को दूर करने के लिए एक मजबूत क्षेत्रीय प्रतिनिधित्व और नेतृत्व की आवश्यकता है।

Loading...