नई दिल्ली: शुक्रवार को राज्यसभा में  रोहित वेमुला मामले को लेकर जो हंगामा हुआ है मीडिआ में उसकी चर्चा पहले से ही काफी हो चुकी है। इस मामले पर हुई बहस में स्मृति ईरानी के ‘सिर अर्पण’ की मांग करने वाली बसपा की चीफ ने सदन के बाहर भी केंद्र सरकार को जमकर कोसते हुए कहा है कि गुरुवार स्मृति ने उनसे को संसद की लॉबी में आकर  माफी मांगी थी और उन्होंने माफ भी कर दिया था। लेकिन दुर्गा और महिषासुर के नाम पर केंद्र सरकार अब देश के दलितों को  बदनाम करने की कोशिश कर रही है।

मायावती ने इस सारे मामले पर दुःख जताते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के नेता दलितों को लेकर नाटक करते हैं. हमने जब सदन में भी पूरा मामला उठाया तो वो चुप रहें इससे पता चलता है कांग्रेस और बीजेपी दोनों दलितों के मामले में एक ही थाली के चट्टे बट्टे हैं।

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट रोहित वेमुला की आत्महत्या मामले पर  स्मृति ईरानी के जवाबों से मायावती ने विरोध जाहिर किया है।  मायावती ने स्मृति को सलाह देते हुए कहा कि अभी तुम में इतनी समझ नही है इसलिए तुम्हे माफ़ कर दिया है लेकिन तुम्हे अपने व्यवहार में बदलाव लाना चाहिए नहीं ऐसे तुम आगे नहीं बढ़ पाओगी। (Siasat)

Loading...