taukir
Source: News18
taukir
Source: News18

उत्तरप्रदेश के कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा को लेकर इत्तेहादे मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खां ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले देश भर में कासगंज जैसी कई घटनाएं सामने आ सकती है. जिसे रोकने के लिए हमे तैयार रहना चाहिए.

इस दौरान उन्होंने कासगंज दंगे में मारे गए चंदन गुप्ता के परिवार वालों को 50 लाख रूपये और घायलों को 20-20 लाख रूपये देने की मांग की. साथ ही उन्होंने कहा, वे बहुत जल्द ही दंगे में मारे गए युवक चंदन गुप्ता के घर जाकर उनके परिजनों से मुलाकात करेंगे. मौलाना ने कहा कि 1 फरवरी को कासगंज जाएंगे, अगर किसी की हिम्मत है तो उनकी यात्रा रोक कर दिखाए.

उन्होंने वंदे मातरम को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक रिट याचिका दायर करने की भी बात कही. जिसमें वे मांग करेंगे कि कानूनों में बदलाव कर फिर से वंदे मातरम को नया राष्ट्रगान बनाया जाए. इसके अलावा उन्होंने बरेली डीएम की फेसबुक पोस्ट का भी समर्थन किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह एक जिहादी अफसर हैं, ऐसे अधिकारी बहुत कम लोग होते हैं, कुछ फिरकापरस्त ताकत है जो माहौल बिगाड़ने चाहती हैं, इस तरह के अधिकारी जब तक हैं वह माहौल बिगड़ने नहीं देंगे.

ध्यान रहे डीएम ने अपनी पोस्ट में कहा था, ”अजब रिवाज बन गया है. मुस्लिम मोहल्लों में जबरदस्ती जुलूस ले जाओ और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाओ. क्यों भाई वे पाकिस्तानी हैं क्या? यही यहां बरेली के खेलम में हुआ था. फिर पथराव हुआ, मुकदमे लिखे गए….”