Friday, July 23, 2021

 

 

 

तबलीगी जमात के गुनाह की नहीं फेक न्यूज़ की सज़ा झेल रहा मुसलमान: मौलाना कासमी

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस सचिव मौलाना उमर कासमी ने केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के उस बयान पर अपना कड़ा विरोध जताया। जिसमे उन्होने तबलीगी जमात के सबंध में कहा कि किसी एक संस्था या व्यक्ति के गुनाह को पूरे समुदाय के गुनाह के तौर पर नहीं देखा जा सकता।

कासमी ने कहा कि निज़ामुद्दीन मरकज मामले के सामने आने के बाद जिस तरह मुस्लिमों को फेक न्यूज़ के जरिये कोरोना के प्रसार के लिए जिम्मेदार ठहराया गया। उसकी सज़ा पूरा मुस्लिम समुदाय भुगत रहा है। टोपी-दाढ़ी और बुर्का देखकर मुस्लिमो को निशाना बनाया जा रहा है। उनका अस्पतालों में इलाज नहीं किया जा रहा। मुस्लिमों के नाम पूछकर पीटा जा रहा है।

कांग्रेस सचिव ने कहा कि केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री का दायित्व है कि वह अल्पसंख्यकों की सुरक्षा सुनिश्चित करें। उनकी परेशानियों और मुसीबतों को दूर करें। उनके साथ हो रहे भेदभाव के खिलाफ उचित कदम उठाए। लेकिन नक़वी साहब कुछ करने के बजाय मीडिया में सिर्फ भाषण दे रहे है।

उन्होने कहा कि देश का मुसलमान आज डरा और सहमा हुआ है। उन्होने कहा, पूरी दुनिया कोरोना महामारी का धर्म, जात-पात, राष्ट्रियता, लिंग जैसे सभी विभेद भूलकर मुक़ाबला कर रही है। लेकिन हमारे देश में इस महामारी को भी धर्म से जोड़ दिया गया। इसके लिए मुस्लिमों को जिम्मेदार बताया गया।

कांग्रेस सचिव ने कहा कि किसी भी मामले को किसी भी तरह मुस्लिमों से जोड़कर मुसलमानों को बदनाम कर दिया जाता है। लेकिन न तो अल्पसंख्यक मंत्रालय और अल्पसंख्यक आयोग इस पर संज्ञान लेता है। उन्होने केंद्रीय मंत्री से मुस्लिमो के हित में कार्य करने की अपील की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles