नई दिल्ली : राजस्थान में कांग्रेस ने बड़ा दांव खेलते हुए बीजेपी के पूर्व नेता और अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ मैदान में उतारा है।

सीएम वसुंधरा राजे ने आज (शनिवार) को ही झालावाड़ सीट से अपना नामांकन दाखिल कर चुकीहै। नामांकन से पहले उन्होंने श्रीराड़ी बालाजी में पूजा की। वसुंधरा के पर्चा दाखिल करने के वक्त केंन्द्रीय मंत्री शाहनवाज हुसैन भी मौजूद रहे। बता दें राजे इस सीट से चौथी बार चुनाव लड़ रही हैं।

मानवेंद्र सिंह और उनके पिता जसवंत सिंह लंबे समय से बीजेपी से नाराज थे। साल 2014 में पार्टी ने जसवंत सिंह को बाड़मेर से टिकट देने से इनकार कर दिया था। पिछले चार सालों से कोमा में चल रहे जसवंत सिंह ने बाद में निर्दलीय चुनाव लड़ा था और बीजेपी के उम्मीदवार से हार का सामना करना था।

congress bjp 647 033117014707

मानवेंद्र सिंह ने कहा कि यह बहुत बड़ी चुनौती है. मैंने तो राहुल जी से लोकसभा चुनाव लड़ने की बात की थी, पर पार्टी ने मुझ पर भरोसा जताया है। मैंने नहीं कहा कि मुझे वसुंधरा के ख़िलाफ़ लड़ना है पर पार्टी का फ़ैसला है तो मैं तैयार हूं। जसवंत सिंह ने कहा कि मैं यही कहूंगा अपने समर्थकों से कि स्वाभिमान की लड़ाई जारी है। मैंने कोई उपमुख्यमंत्री की पोस्ट नहीं मांगी थी। उन्होंने कहा कि मैं तैयार हूं। चुनौती बड़ी है। मैं पूरी मेहनत करूंगा।

राजपूत वोट पर मानवेंद्र और उनके पिता जसवंत सिंह की अच्छी पकड़ मानी जाती है। इसी को ध्यान में रखकर मानवेंद्र को वसुंधरा के सामने उतारा गया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन