yshh

yshh

अटल बिहारी सरकार में वित्त मंत्री रहे यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाने पर लिया है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को जनादेश देश की अर्थव्यवस्था संभालने के लिए मिला था. बल्कि इसलिए नहीं कि वे सिर्फ पिछली सरकारों पर आरोप लगाते रहे.

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि आगामी चुनाव में जनता आपके प्रदर्शन और आपके द्वारा किए गए वादों को लेकर फैसला लेगी. उन्होंने कहा कि मोदी कहते हैं कि हम लोग निराशा फैला रहे हैं तो उन्होंने सुधारात्मक कदम उठाने का फैसला क्यों किया?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एनडीटीवी.कॉम से बातचीत में सिन्हा ने कहा कि मेरी आलोचना के बाद सरकार हरकत में आई है. उन्होंने कहा, ‘अगर हम लोग केवल निराशा ही फैला रहे हैं तो सरकार ने तेल पर एक्साइज ड्यूटी क्यों घटाई और फिर जीएसटी परिषद की बैठक क्यों की जा रही है?”

सिन्हा ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘देश की गिरती हुई अर्थव्यवस्था पर मनमर्जी करने और जब उसके बारे में पूछा जाए तो इसका आरोप पिछली सरकार पर लगाने के लिए आपको यह जनादेश नहीं मिला था. अगले चुनाव में आपको आपके प्रदर्शन और आपके द्वारा किए गए वादों के आधार पर लोग आपको जज करेंगे.’

साथ ही उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को भी निशाने पर लिया और कहा, आर्थिक नीतियां तय करने में शाह की अनावश्यक रूप से बड़ी भूमिका होती है. उन्होंने कहा, जब राजनीतिक और आर्थिक मामलों पर कैबिनेट कमेटी है, जिसके कई अन्य मंत्री हिस्सा हैं, लेकिन उनमें से किसी को नहीं बुलाया गया. अब सवाल यह उठता है कि पार्टी अध्यक्ष कैसे सीधे तौर पर सरकार चलाने या अहम फैसले लेने में शामिल हो सकता है.

Loading...