Saturday, December 4, 2021

तेरह घंटे से ममता का धरना जारी, विपक्ष की और से मिल रहा समर्थन

- Advertisement -

कोलकाता: चिटफंड घोटालों के सिलसिले में कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से पूछताछ की सीबीआई की कोशिश के खिलाफ रविवार रात धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के बीच जबर्दस्त टकराव की स्थिति पैदा हो गई।

ममता बनर्जी ने कहा है कि मोदी सरकार ने ‘संविधान और संघीय ढांचे’ की भावना का गला घोंट दिया। इस बीच, कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियां इस मुद्दे पर ममता बनर्जी का समर्थन किया है। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज ममता बनर्जी का समर्थन करने कोलकाता जा सकते हैं।

इससे पहले ममता बनर्जी ने रविवार को भी कहा था, ‘मैं यकीन दिला सकती हूं…मैं मरने के लिए तैयार हूं, लेकिन मैं मोदी सरकार के आगे झुकने के लिए तैयार नहीं हूं। हम आपातकाल लागू नहीं करने देंगे। कृपया भारत को बचाएं, लोकतंत्र बचाएं, संविधान बचाएं।’

वहीं बीजेपी ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि ममता ने सीबीआई को सुबूत क्‍यों नहीं दिए. उन्‍होंने सीबीआई को जांच से क्‍यों रोका। बीजेपी का एक उच्‍चस्‍तरीय प्रतिनिधिमंडल ममता बनर्जी के धरने के खिलाफ आज दोपहर 12:30 बजे चुनाव आयोग से मिलेगा। वहीं कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार भी सोमवार सुबह धरनास्‍थल पर ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद वहां से चले गए।

आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री और तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने इस मामले पर कहा, ‘हम लोग दिल्‍ली में सोमवार को सभी विपक्षी नेताओं के साथ इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे। साथ ही पूरे देश में आंदोलन चलाने को लेकर रणनीति बनाएंगे। तेदेपा सांसद इस मामले पर अन्‍य विपक्षी दलों के सांसदों के साथ धरना देंगे।’

आज सुप्रीम कोर्ट जाएगी सीबीआई सीबीआई सोमवार को इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का रूख करेगी. सीबीआई आज चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) रंजन गोगोई की कोर्ट में सुबह 10:30 बजे याचिका दायर करेगी। इस दौरान वह जल्‍द सुनवाई की अपील करेगी। सीबीआई की ओर से केस की पैरवी तुषार मेहता करेंगे। वहीं पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी केस को देखेंगे। सीबीआई ने दावा किया कि पोंजी घोटालों में उसकी जांच में पश्चिम बंगाल सरकार और राज्य की पुलिस रोड़े अटका रही है।

ममता ने बिना कुछ खाए बिताई रात मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कुछ वरिष्ठ मंत्रियों और पार्टी के सदस्यों के साथ बिना कुछ खाए रातभर अस्थायी मंच पर बैठी रहीं। बनर्जी ने कहा, ‘‘यह एक सत्याग्रह है और जब तक देश सुरक्षित नहीं हो जाता तब तक मैं इसे जारी रखूंगी’’ उन्होंने कहा कि उन्हें मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और गुजरात के विधायक व दलित नेता जिग्नेश मेवाणी समेत कई नेताओं के फोन आ रहे हैं।

यह सारा घटनाक्रम बहुत तेजी से उस वक्त शुरू हुआ, जब सीबीआई के 40 अधिकारियों की एक टीम आज शाम मध्य कोलकाता में कुमार के लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पर पहुंची, लेकिन वहां तैनात संतरियों एवं कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया। सीबीआई के संयुक्त निदेशक पंकज श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘हम वहां उनसे (कुमार से) पूछताछ करने और जांच करने गए थे। और यदि उन्होंने सहयोग नहीं किया होता, तो हम उन्हें हिरासत में ले लेते।”

क्या है चिटफंड घोटाला

पश्चिम बंगाल से जुड़े शारदा ग्रुप ने 2013 में गलत तरीके से निवेशकों से पैसे जुटाए और उन्हें वापस नहीं किया। शारदा ग्रुप पर करीब 10 लाख निवेशकों से 2500 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी करने का अनुमान है। वहीं रोजवैली के अध्यक्ष गौतम कुंडु पर आरोप है कि उन्होंने चिटफंड योजनाओं के जरिये छोटे निवेशकों के साथ करीब 17,000 करोड़ रुपये की ठगी की है। माना जाता है कि इन दोनों कंपनियों के तार सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस से भी जुड़े हुए हैं।

हाई प्रोफाइल हस्तियों से जुड़े हैं दोनों मामले 

दोनों चिटफंड घोटालों की जांच सीबीआई कर रही है। इस मामले में 11 जनवरी को सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया। शारदा घोटाले में संलिप्तता के चलते तृणमूल नेता कुणाल घोष भी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। रोज वैली चिटफंड घोटाले में शामिल होने के आरोप में टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्याय और तापस पॉल को सीबीआई गिरफ्तार कर चुकी है। शारदा के चेयरमैन सुदीप्त सेन हैं। सेन पर आरोप है कि उन्होंने कथित फ्रॉड करके फंड का गलत इस्तेमाल किया।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles