NRC के मुद्दे पर आक्रामक रुख अख़्तियार कर चुकी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा वोट बैंक की राजनीति के तहत बांग्लादेश से रिश्ता बिगाड़ने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के साथ भारत का बहुत अच्छा संबंध है।

उन्होंने कहा कि जारी एनआरसी में जिन 40 लाख लोगों के नाम मौजूद नहीं हैं, उनमें सिर्फ एक फीसदी घुसपैठिये हो सकते हैं, लेकिन घुसपैठिये के नाम पर लोगों को परेशान किया जा रहा है। ममता ने कहा, ‘एनआरसी की वजह से बांग्लादेश के साथ भारत के रिश्ते बिगड़ेंगे। एनआरसी की लिस्ट में जिन 40 लाख लोगों के नाम नहीं हैं, उसमें केवल एक प्रतिशत घुसपैठिये हो सकते हैं। लेकिन भाजपा ऐसे पेश कर रही है कि जिनका नाम नहीं आया है, वे घुसपैठिये हैं।’

ममता ने ये भी कहा किसरकार क्यों सिर्फ बांग्लादेश से आए लोगों पर कार्रवाई कर रही है। उनका कहना है कि भारत में लगभग उतनी ही आबादी नेपाली लोगों की भी रहती है। ममता ने कहा ‘बंटवारे के बाद कई लोग पाकिस्तान से भी आए थे, नेपाल भी पड़ोसी है। हमें यह याद रखना चाहिए। बॉर्डर राज्यों का मुद्दा नहीं है लेकिन केंद्रों का है।’ उन्होंने कहा ‘इसलिए उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना केंद्र का काम है।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, ‘‘बांग्लादेश आतंकी देश नहीं है। आजादी के बाद पाकिस्तान से कई लोग गुजरात, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, पंजाब आए। बांग्लादेश से भी लोग त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, बिहार और कई राज्यों में आए। वे आतंकवादी या घुसपैठिये नहीं हैं। क्या यह अपराध है कि बांग्लादेश और हमारी मातृभाषा एक है? वे (केंद्र) सोचते हैं कि बांग्ला बोलने वाला बांग्लदेशी है।’’

एनडीटीवी के मुताबिक ममता ने कहा कि बांग्लादेश और पश्चिम बंगाल सिर्फ बॉर्डर ही साझा नहीं करते बल्कि हमारी संस्कृति और भाषा भी साझा करते हैं। इससे पहले उन्होंने मंगलवार को आरोप लगाया था कि लोगों को बांटने के राजनीतिक मकसद से असम में एनआरसी कवायद की गई और उन्होंने चेताया कि इससे खूनखराबा होगा और देश में गृह युद्ध छिड़ जाएगा।

Loading...