कोलकाता | प्रधनामंत्री मोदी के नोट बंदी के फैसले के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके खिलाफ एक मुहीम छेड़ दी. उन्होंने मोदी सरकार से नोट बंदी का फैसला वापिस लेने की मांग करते हुए देशभर में कई रैलिया आयोजित की. लेकिन जैसे जैसे बाजार में कैश की किल्लत होने लगी तो ममता बनर्जी के सुर भी नरम पड़ने लगे.

पंजाब में हुए विधानसभा चुनावो में बीजेपी और अकाली दल गठबंधन की कमजोर स्थिति पर तंज कसते हुए ममता बनर्जी ने एक बार फिर बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने महानगर के हरिशा पार्क इलाके में एक बूस्टर पम्पिंग स्टेशन के उद्घाटन के मौके पर बोलते हुए ममता बनर्जी ने कहा की भगवा पार्टी (बीजेपी) को पहले अपना घर सँभालने पर ध्यान देना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पंजाब विधानसभा में बीजेपी की खराब स्थिति पर ममता ने कहा की वहां बीजेपी को किसी ने भी वोट नही दिया है. यह पार्टी केवल बाहुबल और धनबल के बल पर चुनाव लड़ना जानती है. इसके अलावा विभिन्न राज्यों की गैर बीजेपी सरकारों को गिराने का काम भी यह पार्टी करने में लगी है. ममता बनर्जी ने बीजेपी पर विपक्षी राजनेताओ को धमकाने के लिए केन्द्रीय एजेंसीज का इस्तेमाल करने का आरोप भी लगाया.

ममता बनर्जी ने बीजेपी को नसीहत देते हुए कहा की भगवा पार्टी को दूसरी पार्टी में तांकाझांकी करने और उनको नुक्सान पहुंचाने की बजाय अपने काम से मतलब रखना चाहिए. ममता ने नोट बंदी का एक बार फिर जिक्र करते हुए कहा की मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट करने का काम किया है. जो कुछ भी देश ने हासिल किया था वो नोट बंदी ने खत्म कर दिया. ममता ने मोदी सरकार बनने के पीछे कांग्रेस की गलतियों को जिम्मेदार ठहराया.

Loading...