कोलकाता | नोट बंदी के बाद से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री मोदी के बीच छत्तिश का आंकड़ा चल रहा है. यह तल्खी इतनी थी की ममता ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा की था मैं मोदी की राजनीती ख़त्म कर दूंगी. उस समय ममता बनर्जी खुलकर नोट बंदी के खिलाफ खडी हो गयी थी. इस दौरान मोदी ने भी कई बार ममता पर निशाना साधा.

यह तल्खी दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच भी खूब दिखाई पड़ती है. इसलिए आये दिन पश्चिम बंगाल से टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़पो की खबरे आती रहती है. फ़िलहाल बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पश्चिम बंगाल में तीन दिविसीय दौरे पर है. दौरे के पहले दिन अमित शाह नक्सलबाड़ी पहुंचे. इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए कहा की पीएम मोदी का विजय रथ टीएमसी भी नही रोक पायेगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा उन्होंने चुनौती पूर्ण अंदाज में कहा की 2019 के लोकसभा चुनावो में बीजेपी को बंगाल में सबसे ज्यादा सीटे मिलेंगी. इसलिए टीएमसी जितना मोदी का रथ रोकने का प्रयास करेगी उतना ही कमल और खिलेगा. लेकिन लगता है की ममता बनर्जी को अमित शाह का यह बयान पसंद नही आया. इसलिए उन्होंने बीजेपी को ललकारते हुए कहा की हमें उनकी चुनौतिया मंजूर है.

ममता ने एक रैली में बीजेपी की चुनौती को स्वीकार करते हुए कहा की हम बहुत जल्द दिल्ली पर कब्ज़ा करेंगे. ममता ने बीजेपी पर हिन्दू धर्म को बदनाम करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा की यह पार्टी धर्मो के बीच नफरत फैलाकर समाज को बाँटने का काम करती है. इसलिए मैं आप सभी लोगो से अपील करती हूँ की इस पार्टी से बचकर रहिये और इसकी बातो में बिलकुल मत आईये.

Loading...