पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गौरक्षकों को साफ़ शब्दों में समझाते हुए कहा कि यदि किसी ने कानून तोड़ा तो कानून फिर अपने ढंग से काम करेगा.

ममता ने कहा कि, कोई शाकाहारी व्यक्ति शाकाहारी भोजन करेगा जबकि मांसाहारी व्यक्ति मांसाहार करेगा. उन्होंने भगवा संगठनो की और इशारा करते हुए कहा कि ये लोग बताने वाले कौन होते हैं कि मैं क्या खाउं.

उन्होंने गौमांस खाने का समर्थन करते हुए कहा कि सभी को अपने धर्म के पालन का अधिकार है और वे गायें गिन रहे हैं. यूरोप में लोग गाय खाते हैं. आदिवासी लोग भी गाय खाते हैं.

इसके अलावा उन्होंने विधानसभा के अगले सत्र में सरकार एक विधेयक लाने का फैसला किया हैं जिसके अनुसार  किसी भी दंगे के दोषियों के लिए यह अनिवार्य होगा कि वे पीडि़तों को मुआवजा दें.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?