पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने NRC के मुद्दे पर आक्रामक रुख अपना ने के साथ ही बुधवार को बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात की। इस मुद्दे पर ममता और आडवाणी के बीच करीब 20 मिनट की बातचीत हुई।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ममता ने कहा, ‘मैं आडवाणी जी को काफी लंबे अरसे से जानती हूं। मैंने आज उनसे मुलाकात की और उनकी सेहत के बारे में जाना।’ उन्होने आगे कहा, ‘मैंने आडवाणी जी से मुलाकात की। मैं सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी से भी मिलूंगी। बाद में देवगौड़ा जी और अरविंद केजरीवाल जी से भी मिलना है।’ इसके साथ ही ममता ने शिवसेना के नेता संजय राउत, सपा नेता जया बच्चन और कांग्रेस नेता अहमद पटेल से भी मुलाकात की।

ममता ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा और बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा से मुलाक़ात कर बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से एक टीम असम में भेजने की मांग की है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मैंने यशवंत सिन्हा जी और शत्रुघ्न सिन्हा जी से मांग की है कि एनआरसी का रियलिटी चेक करने के लिए एक टीम असम भेजी जानी चाहिए।’

ममता ने आगे कहा, ‘असम हमारे बंगाल की सीमा पर है। एनआरसी ड्राफ्ट से हमें भी प्रभाव पड़ेगा। वह हमारे पड़ोसी हैं, अगर हमारे पड़ोसी दुखी होंगे तो क्या हम आवाज नहीं उठाएंगे?’ उन्होने कहा,अगर मेरे माता-पिता को भी अपनी नागरिकता प्रूफ करनी होती तो शायद वो भी नहीं कर पाते। ममता ने कहा कि मेरे माता-पिता साधारण किसान थे।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें