पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले से जुड़े चाईबासा कोषागार गबन मामले में दोषी करार दिया है. हालाँकि इस मामले में अभी सज़ा का ऐलान नहीं किया गया है.

लालू के साथ 50 अन्य को भी दोषी पाया गया है, जिनमें जगनाथ मिश्रा का नाम भी शामिल है. वहीं 6 को कोर्ट ने बरी किया है. सभी दोषियों की सज़ा का ऐलान आज ही 2 बजे होगा.  ध्यान रहे यह मामला चाइबासा ट्रेजरी 1992-1993 में 33.67 करोड़ रुपये की फ्रॉड निकासी से संबंधित है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कोर्ट के इस फैसले के बाद लालू के छोटे पुत्र तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर बड़ा आरोप लगाया है और कहा कि उन्होंने ही मेरे पिता को फंसाया है. तेजस्वी ने कहा कि बिहार के भीष्म पितामह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ मिलकर लालू जी को फंसाया है. इनलोगों का टारगेट हैं लालू यादव, बार-बार दिल्ली बिहार के विकास के लिए नहीं जाते हैं लालू को कैसे सजा और दी जाए ये तय करने जाते हैं.

पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि वे फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती देंगे. उन्होंने कहा, सीबीआइ अदालत का फैसला अंतिम नहीं है. हम सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे. उन्होंने कहा कि लालू बिहार की जनता के दिलों में बसे हैं. हम जनता की अदालत में जाएंगे.

ध्यान रहे 21 साल पुराने इस मामले में सीबीआई ने 76 के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी. ट्रायल के दौरान 14 की मौत हो गई. तीन को सरकारी गवाह बनाया गया और एक ने निर्णय से पूर्व दोष स्वीकार कर लिया.