रामपुर। सपा के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व मंत्री आजम खां ने कहा कि कुंभ सियासत का अड्डा बन गया है। कुंभ के आधे पंडालों पर तो मंत्रियों और राजनेताओं का कब्जा है। श्रद्धालुओं की फिक्र किसी को नहीं है। यह तो अर्द्ध कुंभ है। मैं तो महाकुंभ का सफल आयोजन कराया था।

आजम ने कहा कि साधु-संत याद कर रहे हैं कि एक मुसलमान था जिसने महाकुंभ का आयोजन कराया था। जौहर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में आजम ने कहा कि शंकराचार्य अद्योक्षानंद जी ने संदेश भेजा है कि हम कुंभ का समापन आपसे ही करना चाहते हैं। मैंने मना कर दिया।

आजम खां ने कहा कि भाजपा वाले बुरा मान जाएंगे। पहले ही उनमें इस बात को लेकर विवाद चल रहा है कि हनुमान जी कौन थे। कोई बता रहा है दलित, कोई जाट, कोई ठाकुर।

उन्होने कहा, एक सज्जन ने तो उनको मुसलमान बता दिया। जिन्होंने हनुमान जी को मुसलमान बताया था वह मुझे विधानसभा की संयुक्त बैठक के दौरान दिखाई दिए। मैंने सोचा ये हनुमान जी के रिश्तेदार हैं, इनकी दूम जरूर होगी। मैंने उनकी दूम देखने को बढ़ा तो वह बड़ी तेजी से सदन से बाहर चले गए।

आजम खां ने कहा कि प्रदेश सरकार मुझे यह तो बता दे कि मुझ पर कितने मुकदमें हैं, ताकि मैं अपनी जमानत करा सकूं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें