कर्नाटक में विधायकों को पैसे की पेशकश से जुड़ा भाजपा के वरिष्ठ नेता बी एस येदियुरप्पा की कथित बातचीत वाला आडियो टेप सामने आने के बाद कांग्रेस ने शनिवार को कहा कि वह यह मुद्दा सोमवार को संसद में उठाएगी।

पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एवं येदियुरप्पा राज्य में एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली सरकार को गिराने के प्रयास में हैं। पार्टी ने कहा कि इस मामले में उच्चतम न्यायालय को भी संज्ञान लेना चाहिए क्योंकि टेप में उसका उल्लेख किया गया है। कांग्रेस के संगठन महासचिव एवं कर्नाटक प्रभारी केसी वेणुगोपाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘कर्नाटक से कल जो खबर आई इससे पूरा देश सकते में है। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने आडियो टेप जारी कर राज्य की निर्वाचित सरकार को अस्थिर करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के प्रयासों को बेनकाब कर दिया।’

वेणुगोपाल दावा किया, ‘मैंने आडियो क्लिप सुनी है। येदियुरप्पा जी एक-एक विधायक को 10 करोड़ रुपये देने की पेशकश कर रहे हैं। एक विधायक को मंत्री पद और कुछ बोर्डो की जिम्मेदारी देने को बात कर रहे हैं। वह खुद नरेंद्र मोदी और अमित शाह का हवाला दे रहे हैं।’ उन्होंने पूछा, ‘भाजपा किस तरह की राजनीति पर उतर आई है? विधायकों को देने के लिए भाजपा के पास सैकड़ों रुपये कहां से आये हैं?’ उन्होंने कहा, ‘यह कोई पहली बार नहीं हुआ है। भाजपा ने पहले भी खरीद-फरोख्त के जरिये सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की है। इस तरह की राजनीति की कड़ी निंदा होनी चाहिए।’ उन्होंने कहा कि चाहे कुछ हो जाये, हमें पूरा भरोसा है कि कर्नाटक की सरकार बनी रहेगी।

bs yeddyurappa pti 625x300 1526449890511

उन्होंने कहा, ‘हम पूछना चाहते हैं कि प्रधानमंत्री इस मामले में कार्रवाई करेंगे या नहीं?’ पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक सवाल के जवाब में कहा कि सोमवार को यह मामला संसद में उठाया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया, ‘मोदी जी, अमित शाह जी और येदियुरप्पा जी की बदनाम तिकड़ी ने देश में संविधान और प्रजातंत्र को रौंद डाला है। ये गैंग ऑफ थ्री बन गए हैं जिनका किसी तरह सत्ता हासिल करना एकमात्र मकसद है।’ सुरजेवाला ने कहा, ‘इस टेप के जरिये अब मोदी और अमित शाह की भूमिका सामने आ गयी हैं। गैंग ऑफ थ्री कर्नाटक की चुनी हुई सरकार को गिराना चाहते हैं। 200 करोड़ रुपये में 20 विधायकों को खरीदने करने की कोशिश की गई है। यहां तक कि उच्चतम न्यायालय को भी मैनेज करने की बात हो रही है।’ उन्होंने सवाल किया, ‘क्या सीबीआई और ईडी की छापेमारी येदियुरप्पा पर करवाएंगे?’ सुरजेवाला ने कहा, ‘क्या देश की उच्चतम न्यायालय को स्वतः संज्ञान लेकर मोदी जी, भाजपा अध्यक्ष, येदियुरप्पा तथा दूसरे संबंधित नेताओं को नोटिस जारी नहीं करनी चाहिए?’

वहीं कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने शनिवार को कहा कि अगर पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा का ऑडियो क्लिप फर्जी निकला तो वे राजनीति से संन्यास ले लेंगे। कुमारस्वामी ने क्लिप जारी कर आरोप लगाया था, “येदियुरप्पा विधायक नागन गौड़ा के बेटे शरण को फोन करके 25 करोड़ रु और उनके पिता को मंत्रालय देेने का वादा कर रहे हैं।” उन्होंने आरोप लगाया था कि येदियुरप्पा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की अनुमति से सरकार गिराने की कोशिश कर रहे हैं।  मुख्यमंत्री ने इस मामले में मोदी से स्पष्टीकरण मांगा। उन्होंने कहा, “बिना प्रधानमंत्री की जानकारी के ये सब संभव नहीं है। ये सब कुछ हो रहा है वो मोदी और शाह कर रहे हैं। मैं ये क्लिप प्रधानमंत्री को भेजूंगा, जो दावा करते हैं कि वे अकेले देश को बचाने वाले हैं।”

इन आरोपों पर येदियुरप्पा ने कहा था कि उन्होंने नागन से समर्थन मांगने के लिए किसी से मुलाकात नहीं की। यह ड्रामा है सरकार की नाकामी को छिपाने की। जेडीएस और कांग्रेस की गठबंधन सरकार ने लोगों का भरोसा खो दिया है अब सरकार में बने रहने का नैतिक अधिकार नहीं है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें