Tuesday, July 27, 2021

 

 

 

बजट पर बोले कुमारस्वामी – वित्त अधिकारियों ने तैयार किया या फिर आरएसएस ने

- Advertisement -
- Advertisement -

वित्त मंत्री पीयूष गोयल शुक्रवार को मोदी सरकार के वर्तमान कार्यकाल का आखिरी बजट पेश किया. इस बजट में सरकार ने इनकम टैक्स में कोई छूट नहीं दी है. हालांकि पीयूष गोयल ने प्रस्ताव दिया कि नई सरकार बनने के बाद पूर्ण बजट में 5 लाख तक की आय पर इनकम टैक्स में छूट का ऐलान किया जाएगा. साथ ही कई लोकलुभावन योजनाओं की घोषणा की गई. ऐसे में अब विपक्ष ने सवाल उठाना शुरू कर दिया है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने बजट की आलोचना की है. उन्होंने कहा, ”मैं पूछना चाहता हूं कि क्या ये बजट वित्त विभाग के अधिकारियों ने तैयार किया या फिर आरएसएस ने.” वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ”इस सरकार का ये नैतिक अधिकार नहीं है कि वो अगले पांच साल के लिए बजट पेश करे. इस सरकार की एक्सपायरी डेट है. एक्सपायरी डेट के बाद जब आप कोई दवाई देते हैं तो क्या उसका कोई असर होता है? इसकी कोई कीमत नहीं रह जाती है. इस सरकार की भी कोई कीमत नहीं रहेगी.”

इसके अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘पांच साल में आपकी नाकामी और आपके अहंकार ने किसानों का जीवन बर्बाद कर दिया है। 17 रुपये प्रतिदिन देना किसानों का अपमान है।’ दरअसल, प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत किसानों को दी जाने वाली सालाना राहत राशि को लेकर उन्होंने कटाक्ष किया है।

शशि थरूर ने कहा कि यह पूरी कवायद लानत-मलामत की है। सिर्फ एक अच्छा काम हुआ है। मिडिल क्लास के लिए टैक्स स्लैब को बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों को 6000 रुपए का जो मिनिमम सपोर्ट दिया गया है, वह हर महीने 500 रुपए होगा। क्या यह 500 रुपया सम्मान के साथ जीने के लिए काफी है?

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार ने पिछले पांच साल में ईमानदारी से खाद नहीं बांटी। पांच सालों में 5-5 किलो खाद की चोरी कर अब उसे 6 रुपये में वापस करना चाहती है। अखिलेश यादव ने कहा कि दाम बढ़ाकर व वज़न घटाकर बीजेपी ने किसानों को दोहरी मार दी है। किसान बस चुनाव का इन्तजार कर रहा है। किसान आगामी चुनाव में “बोरी की चोरी करने वाली भाजपा” का बोरिया-बिस्तर बांध देगा।

दूसरी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बजट को जनता का बजट बताया है। उन्होंने कहा कि इस बजट में किसान उन्नति से लेकर, कारोबारियों की प्रगति तक, इनकम टैक्स से लेकर इंफ्रास्ट्रक्चर तक, हाउसिंग से लेकर हेल्थ केयर तक, इकोनॉमी को नई गति से लेकर न्यू इंडिया के निर्णाण तक, सभी का ध्यान रखा गया है।

वहीं बजट पेश होने के बाद अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि यह बजट विकास को बढ़ावा देने वाला है। इस बजट में बैंकों से कर्ज नहीं लेने वाले किसानों को भी फायदा मिला है। कामधेनु योजना से गो-पालकों को राहत मिली है। किसान, मजदूर और मध्यम वर्ग की अपेक्षाएं पूरी हुईं। इस बजट से 75 हजार करोड़ का बोझ सहकर किसानों की मदद की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles