कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल (सेक्यूलर) के गठबंधन की सरकार गिर गई है।  मंगलवार को कर्नाटक विधानसभा में विश्वासमत प्रस्ताव पेश किया गया था जिसमें कुमारस्वामी बहुमत साबित करने में असफल रहे। कुमारस्वामी के पक्ष में जहां 99 वोट पड़े वहीं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पक्ष में 105 वोट पड़े।

बता दें कि कुमारस्वामी 14 महीने से 116 विधायकों के साथ सरकार चला रहे थे, लेकिन इसी महीने 15 विधायक बागी हो गए। एचडी कुमारस्वामी ने राज्यपाल वजुभाई वाला को अपना इस्तीफा सौंपा। उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। अब माना जा रहा है कि बीजेपी कर्नाटक के अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा, कर्नाटक के नए ‘स्वामी’ (मुख्यमंत्री) बन सकते हैं।

बीजेपी अगले 2 दिनों में राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं। इस बीच, देर रात भाजपा विधायक दल की बैठक येदियुरप्पा के अध्यक्षता में एक होटल में हुई। बुधवार को फिर बैठक है। येदियुरप्पा ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखकर समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद दिया है।

इस बीच, केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता सदानंद गौड़ा ने साफ किया है कि मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ही होंगे। उन्होंने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व पहले ही इस बारे में अपना मत स्पष्ट कर चुका है। वहीं, भाजपा नेता जगदीश शेट्टार ने कहा कि हमारे साथ 105 विधायक हैं। सदन में हमारा बहुमत है। सरकार बनाएंगे। बागी विधायकों के इस्तीफे स्पीकर ने अभी स्वीकार नहीं किए हैं। अग देखना है वे भाजपा के साथ आना चाहते हैं या नहीं।

कनार्टक के राजनीतिक इतिहास में अब तक सिर्फ तीन मुख्यमंत्री ही अपना कार्यकाल पूरा कर पाये हैं। यह तीनों ही कांग्रेस पार्टी के सीएम रहे हैं।  1962-68 तक एन निजालिंगप्पा, 1972-77 तक डी देवराज उर्स और 2013-18 तक सिद्धारमैया ने ही पूरे पांच साल तक शासन किया।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन