नई दिल्ली | प्रसिद्ध कवि और आम आदमी पार्टी के दिग्गज नेता कुमार विश्वास, पिछले कुछ दिनों से अपनी एक विडियो को लेकर चर्चा में है. 13 मिनट की इस विडियो में कुमार ने कई ज्वलंत मुद्दे को उठाया है. लेकिन बीच में एक जगह कुमार यह भी कह रहे है की भ्रष्टाचार हटाने के नाम पर बनी पार्टी के मुखिया अगर अपने ही नेताओं के भ्रष्टाचार पर मौन साध ले तो लोग सवाल जरुर पूछेंगे.

हालाँकि इस विडियो में कही भी कुमार ने केजरीवाल का नाम नही लिया लेकिन माना गया की उन्होंने सीधे अपनी पार्टी के सबसे बड़े नेता के ऊपर निशाना साधा है. इसके अलावा मीडिया रिपोर्ट्स में भी यह खबर छन छन कर आ रही थी की कुमार ‘आप’ से नाराज चल रहे है. उन्होंने एमसीडी के इलेक्शन में भी किसी भी उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार नही किया जिसके बाद इन खबरों को और बल मिल गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लेकिन जैसे ही एमसीडी इलेक्शन के एग्जिट पोल सामने आये वैसे ही पार्टी के सभी बड़े नेताओ में हलचल मच गयी. आत्ममंथन के लिए सोमवार को सभी विधायको और करीब 300 पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गयी. चौकाने वाली बात यह रही की मीडिया में कुमार की नाराजगी की खबरे चलने के बावजूद वो केजरीवाल के घर पहुंचे और वहां मौजूद लोगो को संबोधित भी किया.

इस दौरान कुमार , केजरीवाल के बगल में बैठे हुए थे. बैठक को संबोधित करते हुए कुमार ने कहा की एमसीडी चुनावो का कुछ फैसला हो , हम सड़क पर झाड़ू उठाकर सफाई करते रहेंगे. यह आन्दोलन से निकली पार्टी है, इसलिए अपने मूलभूत सिधान्तो को हम नही छोड़ेंगे. चुनाव राजनीती नही है, बल्कि राजनीती का एक हिस्सा है. इसलिए चुनावो के नतीजो से घबराने की जरुरत नही है.

उन्होंने इशारो ही इशारों में कहा की अगर हम में कोई कमी है तो उसे दूर करना जरुरी है. केवल कविता पढ़कर कांग्रेस का मुकाबला नही किया जा सकता. ऐसे ही बीजेपी की संप्रदायिकता का मुकाबला भी हम नही कर सकते. इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओ की खूब हौसला अफजाई की. हालाँकि इस बार उन्होंने केजरीवाल के आवास से बाहर निकलकर मीडिया से कोई बात नही की. अमूमन वो हमेशा मीडिया से बात करते थे.

Loading...