जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) से लापता छात्र नजीब अहमद के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की मोदी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि अगर दिल्ली पुलिस की कमान उन्हें सिर्फ एक सप्ताह के लिए सौंप दी जाए तो वे नजीब को खोज निकालेंगे.

केजरीवाल ने कहा कि एक वर्ष से अधिक समय बीत चूका है, लेकिन दिल्ली पुलिस अब तक नजीब को ढूंढ नहीं पाई है, क्योंकि दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अधीन है. उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस नजीब को ढूंढने के लिए बहुत सारी गतिविधियां कर रही है, लेकिन उपरी आदेश के कारण नजीब को खोजना संभव नहीं हो पा रहा है.

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मेने नजीब को ढूंढ निकालने की पूरी कोशिश की, इसके लिए उनकी मां का हर तरह से मदद किया है, लेकिन दिल्ली पुलिस का दायरा सीमित है जो केंद्र के अधीन है. इसलिए मैं नजीब मामले में अब तक कुछ नहीं कर सका.

ध्यान रहे जेएनयू के माही-मांडवी हॉस्टल में 14 अक्टूबर 2016 को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े कार्यकर्ताओं की नजीब के साथ कथित तौर पर मारपीट की थी. अगली सुबह 15 अक्टूबर को नजीब कैंपस से लापता हो गया था. जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने मामले की जांच शुरू की थी.

हालांकि कोई सफलता न मिलने पर कोर्ट ने बाद में मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी. सीबीआई नजीब का सुराग देनेवाले को दस लाख रुपये का ईनाम देने की घोषणा भी कर चुकी है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें