नई दिल्ली | मध्य प्रदेश के भिंड जिले में ईवीएम् मशीन छेड़छाड़ मामले ने अब राजनितिक रंग लेना शुरू कर दिया है. इसी मामले को लेकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने आज चुनाव आयोग से जाकर मुलाकात की. उन्होंने आगामी चुनाव बैलेट पेपर से कराने की मांग करते हुए कहा की अगर मशीन खुद वोट डालने लगे तो यह लोकतंत्र के लिए बहुत बड़ा खतरा है.

भिंड में ईवीएम् छेड़छड का एक विडियो वायरल होने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल , आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल के साथ शनिवार शाम चुनाव आयोग से मिला. केजरीवाल ने चुनाव आयोग के समक्ष भिंड मामले को रखा और उनसे दिल्ली के एमसीडी चुनाव से लेकर आगामी सभी चुनाव बैलेट पेपर से कराने की मांग. चुनाव आयोग से बात कर बाहर निकले केजरीवाल ने इसके बाद मीडिया से बात की.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा की भिंड की घटना के बाद सवाल उठते है की क्या देश में निष्पक्ष चुनाव हो रहे है. लोग वोट डाल रहे है या मशीने डाल रही है. और यह कोई अकेली घटना नही है. इससे पहले असम के चुनाव में एक जगह पर मशीन सभी वोट बीजेपी को डाल रही थी , दिल्ली कैंट में एक ऐसी ही घटना सामने आई थी. अभी मुंबई महानगर पालिका के चुनाव में भी एक उम्मीदवार ने इस तरह की शिकायत दर्ज की.

केजरीवाल ने चुनाव आयोग पर निशाना साधते हुए कहा की अगर मशीन में तकनीकी खराबी आ जाती है तो वो कांग्रेस या समाजवादी पार्टी को वोट क्यों नही डालती? हर बार बीजेपी को ही क्यों सभी वोट जाते है? ये किस तरह की तकनिकी खराबी है? मतलब साफ़ है मशीने ख़राब नही है बल्कि उनके साथ छेड़छाड़ की गयी है. मैं भी आईआईटी से इंजिनियर हूँ , थोड़ी बहुत तकनीक मैं भी समझता हूँ.

उधर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कह की मैं पहले से ही ईवीएम् मशीनो पर विश्वास नही करता हूँ. अगर विश्व भर में चुनाव बैलेट पेपर से चुनाव हो सकते है तो भारत में क्यों नही? भिंड मामले पर उन्होंने कहा की जो मशीन वहां डेमो के लिए रखी गयी थी वो उत्तर प्रदेश इलेक्शन में इस्तेमाल हुई मशीन थी. इसलिए इनकी जांच होनी चाहिए. उधर मामले की गंभीरता को देखते हुए चुनाव आयोग ने भिंड के एसपी और डीएम् समेत 19 लोगो का तबादला कर दिया है.

Loading...