हैदराबाद: असुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाले आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने मंगलवार को तेलंगाना विधानसभा चुनावों में आठ सीटों में से सात सीटें जीतीं, जो हैदराबाद के ओल्ड सिटी के पारंपरिक गढ़ में अपने कब्जे को बरकरार रखती है।

वहीं तेलंगाना की जनता ने टीआरएस के मुखिया और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव को भी स्पष्ट बहुमत दिया है। टीआरएस ने 88 सीटों पर जीत दर्ज की है। ऐसे में जनता के समर्थन के बाद से गदगद चंद्रशेखर राव ने कहा कि हमने दूसरी राजनीतिक पार्टियों से बात की है और मैं यह कह देना चाहता हूं 2019 के चुनाव में हम अहम भूमिका निभाएंगे। वहीं उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजनीति में मैं सक्रिय भूमिका में मौजूद रहूंगा।

Loading...

वहीं एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मैं यह जिम्मेदारी के साथ कहना चाहता हूं कि आगामी लोकसभा चुनाव में चंद्रशेखर राव के पास वह क्षमता है कि वह देश का नेतृत्व करें। उन्होंने कहा कि अब इस देश को कांग्रेस और भाजपा के अलावा एक तीसरे नेतृत्व की जरूरत है और यह क्षमता के चंद्रशेखर राव में है।

ओवैसी ने कहा कि पिछले तीन महीनों से उन्हें करीब से देखने के बाद मुझे लगता है कि इस देश को उनके जैसे नेता की जरूरत है।  उन्होंने कहा कि 2019 के चुनाव तक मैं  चंद्रशेखर राव के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलूंगा।  मुझे लगता है उनका अगला कदम देश के विकास के लिए अहम होगा। और 2019 का चुनाव में जनता नॉन कांग्रेस और नॉन भाजपा सरकार को जगह देगी।

बता दें कि ओवैसी ने 10 दिसंबर को तेलंगाना विधानसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले ही ओवैसी ने सीएम के. चंद्रशेखर राव से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद ओवैसी ने कहा था कि केसीआर बिना किसी सपोर्ट के सीएम बनेंगे और हम उनके साथ खड़े रहेंगे।उन्होंने कल भी कहा था कि हमने किसी तरह की मांग नहीं की है, हम उनके साथ खड़े हैं न सिर्फ तेलंगाना की भलाई के लिए बल्कि राष्ट्र निर्माण के लिए भी।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें