नई दिल्ली | साल 2019 के लोकसभा चुनावो के लिए गठबंधन की सम्भावना तलाशती बीजेपी ने बिहार में सत्तारूढ़ जेडीयु पर डोरे डालने शुरू कर दिए है. बिहार के बीजेपी अध्यक्ष सुशील मोदी पहले ही कह चुके है की अगर नीतीश कुमार लालू प्रसाद यादव का साथ छोड़ दे तो हम उन्हें समर्थन देने के लिए तैयार है. गठबंधन के लिए लालायित दिख रही बीजेपी यह नही चाहती की आगामी लोकसभा चुनावो में कोई महागठबंधन अस्तित्व में आये.

दरअसल जेडीयु पिछले कई चुनावो से पुरे विपक्ष को इकठ्ठा करने की कोशिश कर रहा है. उनका मानना है की जब तक विपक्ष एक नही होगा, बीजेपी यूँ ही हर चुनावो में जीत हासिल करती रहेगी. विपक्षी दलों के अलग अलग चुनाव लड़ने की वजह से उनका वोट बंट जाता है जिसकी वजह से बीजेपी के उम्मीदवार जीत जाते है. बीजेपी भी यह मालूम है की नितीश कुमार की साफ़ छवि , पुरे विपक्ष को एक करने का माद्दा रखती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसलिए वो किसी भी हाल में जेडीयु को अपने साथ करने पर आमादा है. उधर लालू प्रसाद यादव भी पिछले कुछ दिनों से मुसीबत का सामना कर रहे है. पहले उनके बेटे और बेटी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे और इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने चारा घोटाले में उन पर अपराधिक मुकदमा चलाने की इजाजत दे दी. इसलिए बीजेपी लालू के कमजोर होने का फायदा उठाना चाहती है.

लेकिन सभी संभावनाओ पर विराम लगाते हुए जेडीयु नेता केसी त्यागी ने कहा की हमारा बीजेपी के साथ तलाक हो चूका है. यही नही इद्दत की मियाद (तीन महीना) भी पूरी हो चुकी है. इसलिए बीजेपी के साथ निकाह-ए-हलाला नही हो सकता. केसी त्यागी ने स्पष्ट किया की वो बीजेपी के साथ गठबंधन नही करेंगे. यही नही उन्होंने यहाँ तक कहा की आगामी चुनावो में विपक्ष को एकजुट कर चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने नितीश को प्रधानमंत्री बनते देखने की भी इच्छा जाहिर की.

Loading...