Thursday, October 21, 2021

 

 

 

फ़ारूक़ अब्दुल्ला बोले – ‘कश्मीरी आज ख़ुद को नहीं मानते भारतीय, चीन के साथ रहने को तैयार’

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने बड़ा बयान दिया है। जिसमे उन्होने कहा कि आज कश्मीरी नागरिक खुद को भारतीय नहीं समझते और वे भारतीय रहना भी नहीं चाहते। इसके बदले वो चाहते हैं कि चीन उन पर हुकूमत करे।

द वायर  को दिए एक इंटरव्यू में फारूक अब्दुल्ला ने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो मुझे हैरानी होगी अगर उन्हें (सरकार) वहां कोई ऐसा शख्स मिल जाता है जो खुद को भारतीय बोले। अब्दुल्ला ने आगे कहा, ‘आप जाइए और वहां किसी से भी बात कीजिए.. वे खुद को भारतीय नहीं मानते हैं और न ही पाकिस्तानी.. मैं यह आपको स्पष्ट कर दूं। पिछले साल 5 अगस्त को उन्होंने (मोदी सरकार ने) जो किया, वह ताबूत में आखिरी कील था।’

अब्दुल्ला ने कहा, ‘यह वहां के लोगों का मूड है क्योंकि कश्मीरियों को सरकार पर कोई भरोसा नहीं रह गया है।’ उन्होंने कहा कि विभाजन के वक्त घाटी के लोगों का पाकिस्तान जाना आसान था लेकिन तब उन्होंने गांधी के भारत को चुना था न कि मोदी के भारत का।

फारूक अब्दुल्ला आगे कहा, ‘आज दूसरी तरफ से चीन आगे बढ़ रहा है। अगर आप कश्मीरियों से बात करें तो कई लोग चाहेंगे कि चीन भारत में आ जाए। जबकि उन्हें पता है कि चीन ने मुस्लिमों के साथ क्या किया है।’ अब्दुल्ला ने कहा, ‘मैं इस पर बहुत गंभीर नहीं हूं लेकिन मैं ईमानदारी से कह रहा जिसे लोग सुनना नहीं चाहते।’

केंद्र पर निशाना साधते हुए फारूक अब्दुल्ला ने दावा किया कि अगर वे घाटी में कही भी भारत के बारे में कुछ बोलते हैं तो कोई उन्हें सुनने वाला कोई नहीं होता है। उन्होंने कहा, ‘वहां हर गली में एके 47 लिए हुए सुरक्षाकर्मी खड़ा है। आजादी कहां है?’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles