ISI जासूसों की गिरफ्तारी पर बोले कमलनाथ – किसी को न छोड़ा जाए, चाहे किसी भी पार्टी का हो

6:03 pm Published by:-Hindi News
kamal nath 621x414

मध्य प्रदेश के सतना से आतंकवादियों को पैसा पहुंचाने के आरोप में गिरफ्तार तीन लोगों को अदालत में पेश किया। अदालत ने आगे पूछताछ के लिये तीनों को पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया है।

पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते भोपाल के पुलिस अधीक्षक प्रणव नागवंशी ने बताया कि सतना से गिरफ्तार किये गये सुनील सिंह, बलराम सिंह, और शुभम मिश्रा को शुक्रवार को पुलिस रिमांड के लिये अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपियों से आगे पूछताछ के लिये पांच दिन के पुलिस रिमांड में भेजने का आदेश दिया है।

उन्होंने बताया कि आरोपियों को गुरुवार को सतना पुलिस ने गिरफ्तार किया था और मामले में आगे जांच के लिये एटीएस को सौंप दिया। पकड़े गए आरोपियों के खिलाफ एटीएस द्वारा भारतीय दंड विधान की धारा 123 (युद्ध करने की परिकल्पना को सुगम बनाने के आशय से छिपाना) के तहत मामला दर्ज कर आगे की जांच की जा रही है।

मामले में राज्य के मुखिया मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को भोपाल में कहा, “इस पूरे मामले की जांच की जाए। इस पूरे रैकेट का पर्दाफाश किया जाए।  इस तरह की गतिविधि में जुड़े किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाए। प्रदेश की धरती पर टेरर फंडिग व पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी का कृत्य बर्दाश्त नहीं। इस कांड से जुड़े किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाए, चाहे वह किसी भी राजनीतिक दल से जुड़ा हो, या कितना भी बड़ा शख्स हो।”

कमलनाथ ने लगभग डेढ़ साल के भीतर दूसरी बार राज्य में पाकिस्तान को सूचनाएं पहुंचाने वाले गिरोह के भंडाफोड़ होने की घटना को गंभीरता से लिया है। उन्होंने कहा, “क्या कारण है कि जब आठ फरवरी, 2017 को पहली बार इस मामले का खुलासा हुआ था और कुछ लोग इस कांड में पकड़े गए थे, तो उन पर उस समय कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं हुई? कैसे वे वापस बाहर आकर देश विरोधी गतिविधियों को फिर अंजाम देने लगे? इसकी भी जांच हो। इसमें किसी की लापरवाही सामने आए तो उस पर भी कार्रवाई हो।”

Loading...