कौकब कादरी ने दी चेतावनी – औरंगाबाद नहीं तो काराकाट सीट तो मिलनी ही चाहिए

बिहार में कांग्रेस नेता कौकब कादरी के पार्टी से बगावत करने की खबरें आ रही हैं. बताया जा रहा है कि कौकब ने काराकाट लोकसभा सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ने की घोषणा की है. बता दें कि कौकब कादरी बिहार प्रदेश कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष हैं.

बता दें कि काराकाट सीट आरएलएसपी के खाते में जाने की बात कही जा रही है और उपेंद्र कुशवाहा इस सीट से सांसद भी हैं. उन्होंने पहले ही दावेदारी की है कि वह काराकाट से ही चुनाव लड़ेंगे. ऐसे में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी के दावे से कुशवाहा की मुश्किलें बढ़ गई है.

कौकब कादरी ने कहा है कि उपेंद्र कुशवाहा कही और से चुनाव लड़ सकते हैं. उन्होंने कहा कि महागठबंधन के दलों के लिए कांग्रेस ने काफी समझौता किया है. लेकिन सीटों के लिए अब समझौता नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पार्टी के आलाकमान को इसकी सूचना दे दी गई है. अब उनके फैसले का इंतजार है.

congres

कादरी ने कहा है कि पार्टी को औरंगाबाद सीट नहीं मिलती है तो काराकाट मिलनी चाहिए.  कौकब कादरी ने अपने पक्ष में तर्क देते हुए कहा कि दक्षिण बिहार में हमें महज सासाराम सीट मिली है. अगर हमें औरंगाबाद सीट नहीं मिली है तो काराकाट मिलनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं होता है इसका बड़ा रिएक्शन होगा.

उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समाज कांग्रेस की ओर देख रहा है. किसी भी हाल में काराकाट सीट कांग्रेस के खाते में जानी चाहिए. हम काराकाट क्षेत्र के निवासी हैं और यहां से चुनाव लड़ना हमारी चाहत भी है. कादरी ने कहा कि महागठबंधन में मनपसंद सीटों का चयन किया गया है उसमें जातिगत समीकरणों का ध्यान रखना पड़ेगा.

विज्ञापन