साभार - ANI

विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी का “काम बोलता है” नारा ख़ासा लोक प्रिय हुआ था जहाँ अखिलेश यादव को उम्मीद थी की प्रदेश की जनता उन्हें विकास के नाम पर वोट देगी. उन्होंने जी-तोड़ मेहनत से सड़कों, हाईवे,लाइट लैपटॉप सब कुछ गिना डाला लेकिन कब्रिस्तान-शमशान, दिवाली-रमजान उनके विकास पर भारी महसूस हुआ.

साभार – ANI

अपनी उम्मीदों को ठन्डे बस्ते में डाल समाजवादी पार्टी के मुखिया ने अब अगले पांच वर्ष बाद की सोचनी शुरू कर दी है, आन्तरिक कलह से लेकर कांग्रेस से गठबंधन, या बीजेपी से खुला सामना .. मामला चाहे जो भी हो इस समय पार्टी के अन्दर अपनी हार को लेकर मात्थापच्ची जारी है. इसी बीच पार्टी ने नया स्लोगन जारी कर दिया है जिसमे कहा जा रहा है ” की आपकी साइकिल सदा चलेगी आपके नाम से, फिर प्रदेश का दिल जीतेंगे हम मिलकर अपने काम से”

अब पार्टी दोबारा सत्ता में आती है या नही खैर यह तो बिलकुल नही कहा जा सकता लेकिन इतना तय है की अगर बिना तैयार्री के साथ पार्टी मैदान में उतरती है तो बीजेपी के सामने टिकना मुश्किल हो सकता है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...