Thursday, January 27, 2022

JNU हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस पर भड़के ओवैसी मांगा वाईस चांसलर का इस्तीफा

- Advertisement -

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU)में हुई हिंसा और छात्र संघ अध्यक्ष आइशा घोष पर हुई FIR को लेकर एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी दिल्ली पुलिस पर बुरी तरह से भड़के हुए है। उन्होने कहा कि जेएनयू पर हमला किसी आदमी ने नहीं, बल्कि एलियन ने किया था। वे मंगल और शुक्र ग्रह से आए, पुलिस मुख्यालय पर लैंड किया, हमला किया और वापस चले गए।

ओवैसी ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने आइशी घोष की हत्या करने का प्रयास किया। पहली बात यह है कि जांच यह होनी चाहिए कि पुलिस ने इन गुंडों को कैंपस में प्रवेश कैसे करने दिया। जब कैंपस में गुंडे छात्रों की पिटाई कर रहे थे तब कुलपति कहां थे और क्या कर रहे थे और आखिर पुलिस की मौजूदगी के बाद भी कैंपस में घुसे गुंडे बाहर कैसे निकल गए।

ओवैसी ने घोष का नाम लिये बिना कहा कि यह ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ है कि एक मामला उस लड़की के खिलाफ दर्ज किया है जिसे सिर पर 18 से 19 टांके आये हैं। उन्होंने कहा कि अनधिकृत प्रवेश, इन सभी लोगों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज करने की बजाय हम देख रहे हैं कि बिल्कुल उल्टा हो रहा है। यह अन्याय हो रहा है, मैं इस व्यवहार की निंदा करता हूं। यह पूरी तरह से गलत है। हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने मांग की कि जेएनयू कुलपति घटनाओं को लेकर पद से इस्तीफा दें।

बता दें कि ओवैसी रविवार को छात्रों को निशाना बनाने वाली हिंसा और विश्वविद्यालय में सर्वर कक्ष में तोड़फोड़ के संबंध में पुलिस द्वारा दर्ज दो प्राथमिकियों का उल्लेख कर रहे थे। दिल्ली पुलिस ने कहा कि प्राथमिकियां जेएनयू के सर्वर कक्ष में तोड़फोड़ के संबंध में विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा पांच जनवरी को दी गई एक शिकायत पर दर्ज की गई हैं।

हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने मांग की कि जेएनयू कुलपति घटनाओं को लेकर पद से इस्तीफा दें। वहीं एनयू के वाइस चांसलर जगदेश कुमार मंगलवार को पहली बार मीडिया के  सामने आए उन्होंने कहा है कि घायल छात्रों से हमारी पूरी हमदर्दी, हम नई शुरुआत करें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब सर्वर काम कर रहे हैं, रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं।  वीसी ने कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि जितने भी छात्र हिंसा में जख्मी हुई हैं।  वे जल्द स्वस्थ होंगे और सामान्य जिंदगी जिएंगे। जो भी हुआ वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण था। हमारा कैम्पस हर मुद्दों पर चर्चा और बहस के लिए जाना चाता है। हिंसा कोई समाधान नहीं है. हम लोग हर एक विकल्प देख रहे हैं, जिससे कैम्पस में स्थिति सामान्य हो’

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles