हैदराबाद के सांसद और आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने तमिलनाडु में जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शन को लेकर कहा कि हिंदुत्ववादी ताकतों को इससे सबक लेना चाहिए कि देश में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू नहीं किया जा सकता.

ओवैसी ने ट्वीट करके कहा, ‘जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है। यूनिफॉर्म सिविल कोड को इस देश पर थोपा नहीं जा सकता क्योंकि यहां सिर्फ एक संस्कृति नहीं है। हम सभी का जश्न मनाते हैं।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ओवैसी के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए जेडीयू सांसद और प्रवक्ता केसी त्यागी ने ओवैसी पर मामले को सांप्रदायिक रंग रूप देने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि हम उनके बयान और राजनीति से सहमत नहीं हैं. एक तरफ वह अल्पसंख्यकों का मामला उठा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जलीकट्टू के मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं.’

उन्होंने आगे कहा कि ओवैसी अपनी राजनीति से बीजेपी को फायदा पहुंचा रहे हैं और इसी मंसूबे की वजह से वह बिहार भी आए थे. त्यागी ने यह भी कहा कि वह ओवैसी के बयान को कोई तवज्जो नहीं देते.

गौरतलब रहें कि खेल जल्लीकट्टू पर सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में बैन लगा दिया था. बाद में तमिलनाडु सरकार ने याचिका दायर की थी जिसमें फैसले की समीक्षा की बात कही गई थी लेकिन कोर्ट ने उसे भी अस्वीकार कर दिया. जिसके बाद से ही तमिलनाडू में इस पर से प्रतिबन्ध हटाये जाने को लेकर बड़े पैमाने पर राज्य में प्रदर्शन हो रहे हैं.

Loading...