Monday, October 18, 2021

 

 

 

DGP की कुर्सी छोड़ बने नेता गुप्तेश्वर पांडेय को JDU-BJP ने नहीं दिया टिकट

- Advertisement -
- Advertisement -

बिहार के पुलिस महानिदेशक (DGP) के पद से वायलेंटरी रिटायरमेंट लेकर नेता बने पूर्व आईपीएस गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey)  को न तो जेडीयू ने और नहीं बीजेपी ने टिकट दिया है। बता दें कि वे बक्सर से बीजेपी का टिकट चाहते थे।

टिकट नहीं मिलने पर चुनाव से तुरंत पहले जेडीयू में शामिल हुए गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि वे इस बार बिहार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। गुप्तेश्वर पांडेय ने पिछले माह स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (VRS) ले ली थी। उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन दिया था जिसको तुरंत ही स्वीकृति मिल गई।

सेवानिवृत्ति के दो दिन बाद सोशल मीडिया पर “मेरी कहानी मेरी जुबानी” शीर्षक के तहत लोगों के साथ संवाद करते हुए गुप्तेश्वर पांडे ने कहा, ‘अगर मौका मिला और इस योग्य समझा गया कि मुझे राजनीति में आना चाहिए तो मैं आ सकता हूं लेकिन वे लोग निर्णय करेंगे जो हमारी मिट्टी के हैं, बिहार की जनता है और उसमें पहला हक तो बक्सर के लोगों का है जहां मैं पला—बढ़ा हूं।’

अब टिकट नहीं मिलने पर गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा, “अपने अनेक शुभचिंतकों के फोन से परेशान हूं, मैं उनकी चिंता और परेशानी भी समझता हूं। मेरे सेवामुक्त होने के बाद सबको उम्मीद थी कि मैं चुनाव लड़ूंगा लेकिन मैं इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ रहा। हताश निराश होने की कोई बात नहीं है। धीरज रखें। मेरा जीवन संघर्ष में ही बीता है। मैं जीवन भर जनता की सेवा में रहूंगा। कृपया धीरज रखें और मुझे फोन नहीं करे। बिहार की जनता को मेरा जीवन समर्पित है।”

गुप्तेश्वर पांडेय सुशांत सिंह राजपूत केस से चर्चा में आए थे। एक तरफ उनके और शिवसेना नेता संजय राउत के बीच जुबानी जंग हुई तो दूसरी तरफ उन्होंने मामले में आरोपी रिया चक्रवर्ती को लेकर तीखी टिप्पणी की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles