shashi-kala-1

चेन्नई |  तमिलनाडु की ‘अम्मा ‘ जयललिता के निधन के बाद उनकी सबसे करीबी शशिकला को पार्टी की कमान मिलनी लगभग तय है. पार्टी के वरिष्ठ नेताओ और सभी मंत्रियो ने शशिकला से आग्रह किया है की वो पार्टी की कमान संभाले. जयललिता के निधन के बाद AIADMK के जनरल सेक्रेट्री का पद खाली है. लेकिन जयललिता की भतीजी ने शशिकला को पार्टी की कमाना सौपने पर कई सवाल खड़े किये है.

जयललिता की भतीजी दीपा ने एक अंग्रेजी अख़बार को दिए इंटरव्यू में कहा की शशिकला को AIADMK की कमान सौपना काफी दुर्भाग्यपूर्ण होगा. दीपा ने कहा की इससे पार्टी के भीतर असंतोष पैदा होगा क्योकि पार्टी के अन्दर एक धडा , शशिकला को पार्टी की कमान सौपना नही चाहता. यह निर्णय बिलकुल भी उत्साह पैदा करने वाला नही हो सकता.

जयललिता के भाई जयकुमार की बेटी दीपा ने राजनीति में आने के भी संकेत दिए. जब उनसे पुछा गया की क्या वो राजनीती में आयेंगे तो उन्होंने कहा की लोकतंत्र में सब कुछ जनता की इच्छा पर चलता है. अच्छा यही होगा की पार्टी के नेताओ को जनता की शरण में जाना चाहिए और उसी आधार पर आगे का निर्णय करना चाहिए. अगर मौका मिलता है तो राजनीती में आना कोई गलत नही है.

जयललिता के शशिकला और उनके रिश्तेदारो को अपना वारिस बनाने के सवाल पर दीपा ने कहा की यह सब बकवास है. उल्टा मेरी बुआ ने शशिकला के रिश्तेदारों को अपने से दूर रखा. दीपा ने शशिकला पर आरोप लगाते हुए कहा की शशिकला ने बुआ की पीठ पीछे बहुत कुछ किया है. दीपा का यह बयान साफ़ तौर उन लोगो को संजीवनी देने का काम कर सकता है जो शशिकला को पार्टी प्रमुख देखना नही चाहते.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें