jayant sinha 650x400 51462006352

झारखंड में मॉब लिंचिंग के दोषियों को माला पहनाकर उनका कथित तौर पर स्वागत करने वाले केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा के इस्तीफे की मांग को लेकर काँग्रेस सहित पूरे विपक्ष ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कॉंग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि ‘केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की ओर से अभियुक्तों को माला पहनाना क्या इस बात का मेसेज नहीं है कि भारत सरकार इस तरह के लोगों के साथ खड़ी है? सिन्हा ने जो किया है वह संविधान और कानून के खिलाफ है।’ उन्होंने कहा, ‘हमें भरोसा था कि जयंत सिन्हा ने जो कृत्य किया है उसको लिए उन्हें बर्खास्त किया जाएगा। इस मामले में उनको इस्तीफा देना चाहिए।’

उन्होंने प्रश्न किया, ‘पीएम चुप क्यों हैं? इस पर मोदी जी की मन की बात क्यों नहीं आती? क्या उनके मौन से इन घटनाओं को बढ़ावा नहीं मिल रहा है? अमित शाह ने चुप्पी क्यों साध ली है?’ केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के दंगे के आरोपी से मिलने के संदर्भ में तिवारी ने कहा, ‘बात-बात पर पाकिस्तान का वीजा देने और देशभक्ति का सर्टिफिकेट बांटने वाले गिरिराज सिंह के आंसू तब नहीं निकलते, जब महिलाओं के मांग के सिंदूर उजड़ रहे हैं। वह कैमरे को देखते हुए दंगाइयों के लिए आंसू बहाते हैं।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीं छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री व जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के संस्थापक अजीत जोगी ने कहा, जयंत सिन्हा ने हत्या के आरोपियों का स्वागत कर केंद्रीय मंत्री पद की गरिमा को कलंकित किया है। उन्हें इस शर्मनाक कृत्य के लिए देशवासियों से क्षमा मांगनी चाहिए तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चाहिए कि वे इस विषय पर अपनी जुबान खोलें। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा के जनप्रतिनिधियों के स्तरहीन एवं अमर्यादित बयानों पर भाजपा की चुप्पी मौन स्वीकृति को दर्शाती है जो देश की एकता एवं सौहार्द के लिए खतरा बनती जा रही है।

jayn

आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह ने कहा कि भाजपा के तीन मंत्री जम्मू कश्मीर में 8 साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने वाले बलात्कारियों के समर्थन में रैली निकालते हैं केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा लिंचिंग करने वालों को माला पहनाते है, भाजपा का राज है की तालिबान का?

बता दें कि 29 जून को अलीमुद्दीन हत्याकांड में फास्ट ट्रैक कोर्ट की ओर से उम्रकैद की सजा पाए आठ लोगों को हाई कोर्ट से जमानत मिली थी। जिसके बाद सिन्हा आरोपियों को हजारीबाग की जय प्रकाश नारायण सेंट्रल जेल लेने पहुंचे थे। इस दौरान जयंत ने हत्यारों को न केवल फूलमालाएं और मिठाई दीं, बल्कि ऊपरी अदालत में उनका केस लड़ने का भी आश्वासन दिया।

इस मामले में उनके पिता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने भी उन्हे नालायक करार दिया। यशवंत सिन्हा कहा, “पहले मैं एक लायक बेटे का नालायक बाप था, लेकिन अब रोल उलट गया है। मैं अपने बेटे के कार्य का अनुमोदन नहीं करता, लेकिन मैं जानता हूं कि यह भी आगे दुरुपयोग का कारण बनेगा।’

Loading...