जम्मू कश्मीर में बीजेपी और पीडीपीके बीच गठबंधन टूटने के बाद चल रहे राजनीतिक संकट के बीच जम्मू एवं कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि केंद्र अगर जोड़-तोड़ की राजनीति करेगी तो कई सलाउद्दीन और यासीन मलिक पैदा होंगे।

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए महबूबा ने कहा, “इस दिल्ली ने 87 की तरह यहां के आवाम के वोट पर डाका डाला…अगर इस किस्म की कोई तोड़ फोड की कोशिश की गई तो मैं समझती हूं…जिस तरह 1987 में एक सलाउद्दीन और एक यासीन मलिक ने जन्म लिया…अगर आज उन्होंने किसी किस्म की…दिल्ली के बगैर को तोड़-फोड़ मुमकिन नहीं है…मेरी जमात एकजुट है…घरों में समस्याएं होती है उसको सुलझाया जा सकता है…मगर दिल्ली ने किसी तरह से इसमें दखल दिया तो मैं समझती हूं कि 1987 की तरह दिल्लीवालों ने फिर से पीडीपी को तोड़ने की कोशिश की तो इसके नतीजे बहुत खतरनाक होंगे।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि महबूबा मुफ्ती का बयान ऐसे समय में आया है जब बीजेपी पूर्व अलगाववादी सज्जाद लोन की पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के जरिए पीडीपी के बागी विधायकों को साथ लेकर सरकार बनाने की कोशिश मे जुटी है। ताकि राज्य मे बीजेपी को खुद का मुख्यमंत्री मिल सके।

उल्‍लेखनीय है कि राज्‍य की 87 सदस्‍यीय विधानसभा में पीडीपी के 28, बीजेपी के पास 25 विधायक, नेशनल कांफ्रेंस के 15, कांग्रेस के 12 और अन्‍य की सात सीटें हैं। राज्‍य में बहुमत के लिए 44 विधायकों के समर्थन की दरकार है।