जम्‍मू-कश्‍मीर में महबूबा मुफ्ती के नेतृत्‍व वाली सरकार के गिरने के बाद अब उनकी पार्टी मे नया बवाल सामने आ गया है। पार्टी के तीन विधायकों ने बगावत का ऐलान करते हुए पार्टी छोड़ने की बात कही है।

बगावत की शुरूआत सरकार में मंत्री रहे इमरान रजा ने की है। इमरान ने महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधते हुए उन पर पर पार्टी और पूर्व पीडीपी-बीजेपी गठबंधन सरकार में भाई-भतीजावाद का आरोप लगाया। इमरान ने कहा, ‘महबूबा मुफ्ती ने पीडीपी को न केवल पार्टी के रूप में नाकाम किया बल्कि अपने दिवंगत पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद के उन सपनों को तोड़ दिया जो उन्होंने देखे थे।’

इमरान रजा के चाचा और जदिबल विधानसभा क्षेत्र से विधायक आबिद अंसारी ने भी एक पब्लिक मीटिंग में पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा के खिलाफ यही आरोप लगाए। उन्‍होंने कहा कि वह पार्टी छोड़ रहे हैं क्‍योंकि कुछ अक्षम नेताओं ने पार्टी को हाईजैक कर लिया है जो अस्‍वीकार्य है।’

इसके अलावा कश्मीर के प्रमुख शिया नेता और पांच विधानसभा सीटों पर प्रभाव रखने वाले रजा अंसारी ने कहा कि महबूबा की अक्षमता से पार्टी की व्यवस्था लचर हो रही है। महबूबा न सिर्फ पीडीपी बल्कि अपने पिता महबूबा मुफ्ती सैय्यद की उम्मीदों और सपनों को भी पूरा करने में नाकाम साबित हुई हैं।

वहीं महबूबा के रिश्तेदार सरताज मदनी को पार्टी में महत्वपूर्ण पद देने के परोक्ष संदर्भ में कहा, ‘यह एक परिवार का शो बन गया था जिसे भाइयों, चाचाओं और अन्य रिश्तेदारों द्वारा चलाया जा रहा था। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी ‘फैमिली डेमोक्रेटिक पार्टी’ बन गई है।’

बता दें कि उनका बयान ऐसे समय में आया है जब खबरें आ रही हैं कि पीडीपी के कई नेता बगावत कर बीजेपी ज्वॉइन करने को तैयार हैं।  पीडीपी के कई नेता बीजेपी में आना चाहते हैं। इसके लिए अंदर ही अंदर गुणा-गणित का खेल भी चल रहा है। फिलहाल अमरनाथ यात्रा के पूरे होने का इंतजार किया जा रहा है।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें