कांग्रेस के राम मंदिर भूमि पूजन के समर्थन पर आ रहे बयानो की बाढ़ के बाद इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) ने  एक आपातकालीन बैठक बुलाई।

बुधवार को कोझीकोड में बुलाई गई आपात बैठक शीर्ष IUML नेता पार्टी सुप्रीमो पणक्कड़ हैदराली शिहाब थंगल की अध्यक्षता में हुई। बता दें आईयूएमएल – केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) का दूसरा सबसे बड़ा घटक है।

मुस्लिम लीग के नेता कथित तौर पर मंदिर के निर्माण को लेकर कांग्रेस के रुख से खुश नहीं हैं। विशेषकर  प्रियंका गांधी जैसे वरिष्ठ नेताओं के बयान को लेकर। दरअसल, मंगलवार को कांग्रेस पार्टी ने कहा कि यह खुशी है कि राम मंदिर का निर्माण आखिरकार हो रहा है।

कांग्रेस पिछली सरकार और दिवंगत प्रधान मंत्री राजीव गांधी और पी। वी। नरसिम्हा राव के मंदिर के मुद्दे पर किए गए कार्यों को उजागर कर रही है। पार्टी के नेता कह रहे हैं कि राजीव गांधी सबसे पहले मंदिर मुद्दे पर गंभीर कदम उठा रहे थे। जब वह प्रधान मंत्री थे तो उन्होंने राम मंदिर के ताले खोलने की अनुमति दी और फिर 1989 में शिलान्यास की सुविधा दी।

पीवी नरसिम्हा राव के कार्यकाल के दौरान 1992 में विवादित मस्जिद का विध्वंस हुआ और उनकी सरकार के तहत आसन्न भूमि का अधिग्रहण किया गया।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन