Friday, January 28, 2022

भारत हिंदू राष्ट्र नहीं और कभी भी इंशाह अल्लाह नहीं होगा: औवैसी

- Advertisement -

पूर्वोत्तर राज्य असम में शनिवार को नेशनल सिटिज़न रजिस्टर यानी एनआरसी की आख़िरी लिस्ट जारी हो चुकी है। इस लिस्‍ट में लगभग 19 लाख लोग अपनी जगह नहीं बना पाए हैं। एनआरसी की फाइनल लिस्‍ट से 19,06,657 लोग बाहर हो गए हैं। ऐसे में अब राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है।

दरअसल, भारतीय जनता पार्टी के नेता हेमंता बिस्वा शर्मा और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ट्विट्टर पर आपस में भीड़ गए। असदुद्दीन ओवैसी ने हिमंत बिस्वा सरमा का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि, ‘यह खुली स्वीकारोक्ति है कि किस तरह असम एनआरसी का इस्तेमाल मुस्लिमों को बाहर करने के लिए किया गया। पहले इस जटिल प्रक्रिया में बगैर दस्तावेजी सबूतों के लोगों को शामिल करने के बाद अब हिमंत बिस्वा सरमा कह रहे हैं कि किसी भी कीमत पर हिंदुओं की रक्षा की जाएगी।’

ओवैसी ने आगे लिखा, ‘किसी की मान्यता के आधार पर न तो उसे नागरिकता दी जानी चाहिए और न ही वापस ली जानी चाहिए।’ ओवैसी के इस ट्वीट पर पलटवार करते हुए सरमा ने लिखा, ‘अगर भारत हिंदुओं की रक्षा नहीं करेगा तो कौन करेगा? पाकिस्तान? भारत हमेशा सताए हुए हिंदुओं का घर रहेगा, भले ही आप इसके विरोधी हों सर…’

असदुद्दीन ओवैसी और हिमंत बिस्वा सरमा के बीच बातचीत यहीं नहीं रुकी। सरमा के इस ट्वीट के जवाब में ओवैसी ने दोबारा लिखा, ‘भारत को सभी भारतीयों की रक्षा करनी चाहिए, न कि सिर्फ हिंदुओं की। जो लोग टू नेशन थ्योरी में विश्वास रखते हैं, वे कभी नहीं समझ सकते हैं कि ये देश किसी एक आस्था या मान्यता से बहुत बड़ा है। संविधान कहता है कि भारत सभी धर्म और जाति के लोगों को बराबरी का दर्जा देगा। ये हिंदू राष्ट्र नहीं है…और न ही कभी होगा…इंशाअल्लाह.’

इसके बाद हिमंत बिस्वा सरमा ने ओवैसी पर फिर पलटवार करते हुए लिखा, ‘सर…भारत एक सभ्यता है, देश नहीं। किसी भी देश का इतिहास संविधान के साथ शुरू होता है, लेकिन सभ्यता का इतिहास तमाम चीजों से शुरू होता है। इंडिया, जो कि भारत है…वह हमेशा एक जीवंत सभ्यता थी और रहेगी। हिंदुओं की बात करें तो इंडिया 5000 सालों से अधिक समय से हमारा घर रहा है’

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles