akb

हैदराबाद: तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने गुरुवार यानी छह सितंबर को मंत्रिमंडल की बैठक बुलाकर विधानसभा भंग करदी। इस प्रस्ताव को राज्यपाल ईएसएल नरसिंहन ने मंजूरी दे दी। साथ ही नई सरकार का गठन होने तक चंद्रशेखर राव को कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में पद पर बने रहने की ज़िम्मेदारी भी दी।

विधानसभा भंग करने के साथ ही केसीआर ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि “हम चुनाव अकेले लड़ेंगे, लेकिन बेशक हम AIMIM (ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन) के मित्र हैं।” इस बयान के बाद अब AIMIM विधायक दल के नेता अकबरुद्दीन ओवैसी का भी बड़ा बयान सामने आया है। जिसमे उन्होने तेलंगाना का मुख्यमंत्री बनने की ख़्वाहिश जाहीर की है।

Loading...

ओवैसी ने कहा कि अगर कर्नाटक में एचडी कुमार स्वामी मुख्यमंत्री बन सकते हैं, तो वह क्यों नहीं बन सकते।अकबरुद्दीन ने कहा कि उनके पिता सलाउद्दीन ओवैसी (सालार) अकसर कहा करते थे कि सियासत हमारी घर की मुर्गी है। सालार यह भी कहते थे कि हर कोई चाहता है कि हम लोग हमेशा उनके नेतृत्व में काम करें, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.. इसलिए अब लीडरशिप हमको दे दों।

आपको बता दें कि विधानसभा भंग होने के बाद टीआरएस प्रमुख के. चंद्रशेखर राव ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि नवबंर में चुनाव और दिसंबर के पहले सप्ताह में राज्य में फिर से उनकी सरकार बनने वाली है। ऐसे में अपने दिल की ख्वाहिश जताकर वह सीएम केसीआर को एक तरह से आगाह कर रहे हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें