महबूबा मुफ्ती का बड़ा बयान – धारा 370 को हटाया तो जम्मू-कश्मीर से भारत का रिश्ता भी खत्म हो जाएगा

पीडीपी की अध्‍यक्ष और जम्‍मू कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को चेतावनी दी कि यदि केंद्र सरकार अनुच्छेद-370 खत्म करती है तो राज्य के साथ उसका रिश्ता खत्म हो जाएगा। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि फिर 1947 की तरह नए सिरे से नई शर्तों पर रिश्ते तय होंगे।

उन्होंने अनुच्छेद 370 को जम्मू-कश्मीर और हिंदुस्तान के बीच का पुल बताते हुए कहा, ‘अगर आप उसी पुल को तोड़ेंगे तो महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर के कानून की कसम खाती है, हिंदुस्तान के कानून की कसम खाती है तो फिर हम साथ देने का वादा कैसे कर सकते हैं? आपको फिर से हिंदुस्तान और जम्मू-कश्मीर का रिश्ता बनाना पड़ेगा। फिर तो नई शर्तें होंगी, नए समझौते होंगे। तो क्या आप 1947 की तरह उसके लिए तैयार हैं?’ फिर से 1947 की तरह, क्या आप एक मुस्लिम बहुल राज्य के साथ किन शर्तों पर मिलना भी चाहेंगे या नहीं मिलना चाहेंगे। क्योंकि फिर शायद दोबारा सोचना पड़ेगा हमें।’

मुफ्ती के मुताबिक ‘अगर आज आपने हिंदुस्तान के संविधान के अंदर हमें कोई पोजिशन दी है, अगर आप उस पोजिशन को आज खत्म करते हैं, तो हमें दोबारा सोचना पड़ेगा। जिन शर्तों पर हम आपके साथ आए थे, जब आप वो शर्तें ही खत्म कर देंगे, तो क्या हम आपके साथ रहना भी चाहेंगे… बिना शर्तों के।’ आगे उन्होंने कहा, ‘तो ये बात अरुण जेटली साहब को समझना चाहिए, इस पर गौर करना चाहिए। कोई आसान बात नहीं है कि हम 370 को खत्म कर देंगे। अगर 370 को खत्म करोगे तो जम्मू-कश्मीर के साथ आपका रिश्ता खत्म हो जाएगा।’

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 35ए की वैधानिक मान्यता को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। लेकिन 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद बाद एक बार फिर अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को हटाने की मांग ने जोर पकड़ा। हालांकि जम्मू-कश्मीर प्रशासन साफ कर चुका है कि अनुच्छेद 35ए पर सिर्फ चुनी हुई सरकार ही फैसला ले सकती है।

हाल ही में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने अपने एक ब्लॉग में अनुच्छेद 35-ए को जम्मू-कश्मीर के नुकसान का कारण बताया था। इसके साथ ही पिछले महीने खबर आई थी कि अनुच्छेद-370 में संशोधन को भी मोदी कैबिनेट की मंजूरी मिल चुकी है। इसके बाद से ही मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला समेत जम्मू-कश्मीर के कई नेता चेतावनी दे चुके हैं।

विज्ञापन