गांधीनगर | पाटीदार आरक्षण आन्दोलन के मुखिया हार्दिक पटेल गुजरात में एक शक्तिशाली शख्सियत बनकर उभरे है. पटेल समुदाय को आरक्षण देने की मांग कर रहे हार्दिक पटेल , देशद्रोह के आरोप में जमानत पर रिहा चल रहे है. इसी साल गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनावो में हार्दिक पटेल एक अहम भूमिका निभा सकते है. पटेल समुदाय पर उनकी पकड़ बीजेपी के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है.

अहमदाबाद मिरर को दिए गए इंटरव्यू में हार्दिक पटेल ने कई पहलुओ पर अपने विचार रखे. आर्थिक रूप से सुद्रढ़ और प्रभावशाली पटेल समुदाय के लिए आरक्षण की मांग पर उन्होंने कहा की अगर 5 पटेल अमीर है तो इसका मतलब यह नही है की पूरा समुदाय अमीर है,गडियाधर या अमरेली में जाइए आपको स्थिति स्पष्ट हो जाएगी. और सरकार से मैं कोई भीख नही मांग रहा हूँ बल्कि सरकारी नौकरियों और दाखिलो में पटेलो की प्रतिनिधित्व की मांग कर रहा हूँ.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बीजेपी पर सख्त रुख अपनाते हुए हार्दिक ने कहा की मेरे परिवार ने बीजेपी के लिए कई सालो तक काम किया है, उनके लिए मेहनत की है. हम जैसे लोगो की मेहनत की वजह से ही बीजेपी को सत्ता मिली, लेकिन सत्ता में आते ही वो हमको भूल गए. अब हम बीजेपी का प्रतिनिधित्व नही करते. मोदी और अमित शाह पर भड़कते हुए उन्होंने कहा की वो मुझसे डरते है, क्योकि उनसे अलग मेरे पास छुपाने के लिए कुछ नही है. राजद्रोह के आरोप से ज्यादा और की बुरा हो सकता है. इसके लिए मैं 9 महीने जेल में भी काट चूका हूँ.

विधानसभा चुनाव पर हार्दिक ने कहा की वो इस साल गुजरात के राजनीतिक समीकरण बदल देंगे. जनता की बात करने वाली बीजेपी, जीतने के बाद जनता को भूल जाती है. मेरे पास युवा है, जनता है और सबसे बड़ी बात मेरे साथ मेरी उम्र है. इससे ज्यादा और मुझे क्या चाहिए. बजट पर अरुण जेटली पर निशाना साधते हुए उन्होंने पुछा की आखिर जनता का बजट 97 फीसदी उस भाषा में क्यों है जो जनता को ही समझ नही आती.

Loading...