नई दिल्ली | दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल ने शुक्रवार को दिल्ली राज्य निर्वाचन आयोग से मुलाकात की. केजरीवाल ने उनसे मांग की है की दिल्ली में होने वाले एमसीडी चुनावो में या तो नयी ईवीएम् मशीनो का इस्तेमाल किया जाए या फिर बैलेट पेपर से चुनाव कराये जाए. इसके अलावा केजरीवाल ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा की वो ईवीएम् में छेड़छाड़ करने के दस तरीके बता सकते है.

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावो के अप्रत्याशित नतीजे आने के बाद केजरीवाल ईवीएम् में गड़बड़ी की शिकायत कर रहे है. इस दौरान कुछ घटनाएं भी हुई है जो इन आशंकाओ को और बल दे रही है. इसी बीच गुरुवार को उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग ने केन्द्रीय चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखकर नई ईवीएम् की मांग की है. उन्होंने आगामी जुलाई में होने वाले नगर पालिका चुनाव को नई मशीन या बैलेट पेपर से कराने का फैसला किया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने टेंडर भी जारी कर दिए है. इसी मामले को मुद्दा बनाते हुए आज केजरीवाल ने दिल्ली चुनाव आयोग से मुलाकात की. उन्होंने कहा की 2006 से पहली की सभी ईवीएम् कबाड़ हो चुकी है. यह बात उत्तर प्रदेश निर्वाचन आयोग मान चूका है और केन्द्रीय चुनाव आयोग ने भी यह बात काबुली है. इसलिए पुरानी ईवीएम् को कचरे के डब्बे में फेंका जा चूका है. उनकी नीलामी हो चुकी है.

केजरीवाल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा की आखिर जिस मशीन में कोई भी सुरक्षा फीचर नही है, जिसको बच्चा भी हैक कर सकता है, उससे एमसीडी चुनाव क्यों कराये जा रहे है? अगर उत्तर प्रदेश में बैलेट या नही मशीन से चुनाव हो सकते है तो दिल्ली एमसीडी में भी ऐसा ही किया जा सकता है. हमने चुनाव आयोग से मांग की है की अगर इसके लिए चुनाव की तारीखों को आगे बढ़ाना पड़े तो बढ़ा लीजिये.

उधर सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चुनाव आयोग ने केजरीवाल की मांगो को ख़ारिज कर दिया है. उधर एनडीटीवी से बात करते हुए केजरीवाल ने कहा की वो आईआईटी से पढ़े हुए इंजिनियर है. इसलिए एक इंजिनियर होने के नाते वो ईवीएम् से छेड़छाड़ करने के 10 तरीके बता सकते है. इसके अलावा गड़बड़ी पाए जाने वाली मशीनो की भी चुनाव आयोग ने कोई जांच नही करायी. इसलिए मैं कहता हूँ की चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बन अपने दुर्योधन बेटे बीजेपी को किसी भी हाल में सत्ता तक पहुँचाना चाहता है.

Loading...