Monday, September 20, 2021

 

 

 

मैं ब्राह्मण हूं, नाम के साथ नहीं लगा सकता चौकीदार: सुब्रमण्यम स्वामी

- Advertisement -
- Advertisement -

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ‘मैं भी चौकीदार’ कैंपेन को लेकर कहा कि मैं ब्राह्मण हूं और अपने नाम के साथ चौकीदार नहीं लगा सकता हूँ। बता दें कि भारतीय जनता पार्टी ने ‘मैं भी चौकीदार’ कैंपेन को लॉन्च किया और इसके तहत लगभग सभी पार्टी नेताओं ने सोशल मीडिया पर नाम के साथ चौकीदार लगा लिया।

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक सुब्रमण्यम स्वामी से  (24 मार्च) को जब पूछा गया कि वह ट्विटर पर अपने नाम के आगे चौकीदार नहीं जोड़ रहे हैं तो उन्होंने कहा, ”मैं चौकीदार नहीं बन सकता हूं क्योंकि मैं एक ब्राह्मण हूं। मेरे आदेश दूंगा जिसका चौकीदार को पालन करना होता है। इसलिए मैं चौकीदार नहीं बन सकता हूं।”

बता दें कि इस कैंपेन के तहत पीएम मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत पार्टी के कई नेताओं ने ट्विटर पर अपने नाम के आगे चौकीदार शब्द जोड़ा है। ट्विटर पर पीएम मोदी का नया नाम- चौकीदार नरेंद्र मोदी और अमित शाह का नया नाम- चौकीदार अमित शाह हो गया है। इस कैंपेन की शुरुआत खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी।

पीएम मोदी ने कहा था, ‘हर देशवासी जो भ्रष्टाचार, गंदगी और सामाजिक बुराइयों से लड़ रहा है, वो एक चौकीदार है। भारत के विकास के लिए कड़ी मेहनत करने वाला हर व्यक्ति चौकीदार है। आज हर भारतीय कह रहा है #मैं भी चौकीदार।’ इसके बाद ट्विटर पर #MainBhiChowkidar ट्रेंड करने लगा था। स्वामी ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले ऐसा बयान देकर पार्टी को मुश्किल में डाल दिया है।

इससे पहले स्वामी ने शनिवार को दावा किया कि ना तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ना ही वित्त मंत्री अरुण जेटली को अर्थव्यवस्था की जानकारी है क्योंकि वे भारत को पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यस्था बताते हैं जबकि भारत इस सूची में तीसरे स्थान पर है। स्वामी ने परोक्ष रूप से प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्हें यह समझ नहीं आता कि प्रधानमंत्री ऐसा क्यों कहते हैं कि भारत विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है जबकि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) गणना की वैज्ञानिक रूप से स्वीकार्य प्रक्रियाओं के अनुसार, भारत अमेरिका और चीन के बाद तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

स्वामी ने कहा, ‘‘मुझे नहीं पता कि हमारे प्रधानमंत्री यह क्यों कहते रहते हैं कि पांचवीं सबसे बड़ी… क्योंकि उन्हें अर्थशास्त्र की जानकारी नहीं है और वित्त मंत्री भी अर्थशास्त्र नहीं जानते।’’ हार्वर्ड से अर्थशास्त्र विषय में पीएचडी करने वाले और वहां यह विषय पढ़ाने वाले स्वामी अक्सर जेटली की आलोचना करते रहे हैं। स्वामी ने कहा कि विनिमय दरों पर आधारित गणना के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था विश्व में पांचवें स्थान पर है। उन्होंने कहा कि विनिमय दरें बदलती रहती हैं और रुपये में गिरावट होने के कारण, भारत इस तरह की गणना के आधार पर फिलहाल सातवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles