अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि विवादित स्थल पर मंदिर बनाने की क्या जरूरत है, भाजपा को इस सबंध में अदालत का निर्णय मानना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आरएसएस को लोकतंत्र में भरोसा नहीं है, साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि हिंदुत्व का धर्म से कोई वास्ता नहीं है, हिंदुत्व केवल राजनैतिक शब्द है, धार्मिक शब्द नहीं। दिग्विजय सिंह के इस बयान ने राजनितिक जगत में हलचल मचा दी है।

दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी के मंदिर जाने पर भाजपा द्वारा पूछे गए सवालों को लेकर कहा कि यदि राहुल गांधी मंदिर जा रहे हैं तो भाजपा के पेट में क्यों दर्द हो रहा है। भाजपा धर्म की बात करती है लेकिन सिहंस्थ मेले में भी बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अपने छोटे भाई लक्ष्मण सिंह और पुत्र जयवर्धन का नामांकन दाखिल कराने गुना पहुंचे दिग्विजय ने बीजेपी प्रत्याशी और वर्तमान विधायक ममता मीणा को गुंडा बताया है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि उनकी (ममता मीणा) गुंडागर्दी को खत्म करने के लिए छोटे भाई लक्ष्मण सिंह को यहां से प्रत्याशी बनाया गया है, वे लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहे थे, लेकिन पार्टी ने उन्हें विधानसभा चुनाव में उतारने का फैसला किया है।

इस बयान को लेकर भाजपा ने कांग्रेस को राम विरोधी और हिंदू विरोधी बताया है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और चुनाव के लिए मप्र के मीडिया प्रभारी बनाए गए संबित पात्रा ने कहा कि यही कांग्रेस का असली चेहरा है। कांग्रेस राम विरोधी और हिंदू विरोधी है।

Loading...