मुंबई | मुंबई में होने वाले नगर निकाय चुनाव में शिवसेना ने बीजेपी से गठबंधन नही किया है. उनके इस कदम के बाद दोनों पार्टियों में तल्खी अपने चरम पर है. अब शिवसेना ने बीजेपी को एक और पठकनी देते हुए गुजरात में भी विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है. सबसे चौकाने वाली बात यह है की उन्होंने प्रदेश में हार्दिक पटेल को अपनी पार्टी का चेहरा घोषित किया है.

पाटीदार आरक्षण आन्दोलन के अगुवा हार्दिक पटेल पहले भी शिवसेना और आम आदमी पार्टी की तारीफे कर चुके है. गुजरात में बीजेपी के आँख की किरकिरी बने हार्दिक पटेल मुंबई में भी उनके खिलाफ खड़े हो गए है. दरअसल बीएम्सी चुनावो में गुजरात वोटर भी अहम् भूमिका निभाते है. इसी वजह से शिवसेना ने करीब 11 गुजराती उम्मीदवार मैदान में उतारे है. यही कारण है की शिवसेना ने हार्दिक पटेल को प्रचार के लिए बुलाया है.

प्रचार के लिए हार्दिक पटेल सोमवार को मुंबई पहुंचे. यहाँ उन्होंने शिवसेना के उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार किया. इसके बाद वो उद्धव ठाकरे से मिलने मातोश्री पहुंचे. काफी देर बातचीत होने के बाद उद्धव ठाकरे ने गुजरात में चुनाव लड़ने की घोषणा की. उन्होंने बताया की प्रदेश में हार्दिक पटेल हमारी पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे. मालूम हो की इसी साल दिसम्बर में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने वाले है.

हालाँकि गुजरात में शिवसेना का कोई खास जनाधार नही है लेकिन हार्दिक पटेल का पटेल समुदाय में काफी प्रभाव माना जाता है. शिव सेना और हार्दिक मिलकर बीजेपी को काफी नुक्सान पहुंचा सकते है. उद्धव का यह कदम बीजेपी और शिवसेना के बीच की तनातनी को और बढ़ा सकता है. इससे पहले शिवसेना के मुखपत्र सामना में छपे एक लेख में कहा गया की केवल कुछ दुर्भाग्यपूर्ण परिस्तिथियों की वजह से बीजेपी महाराष्ट्र में इतनी सीट जीत सकी. लेकिन इससे बीजेपी को प्रदेश को विभाजित करने का जनादेश नही मिला.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें