नई दिल्ली । अगले महीने होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पटेल समुदाय का समर्थन जुटाने का भ्रसक प्रयास कर रही है। इसके लिए कांग्रेस के कई दिग्गज नेता , पाटिदर आरक्षण आंदोलन के अगवा हार्दिक पटेल को साधने की कोशिश कर रहे है। इस बारे में वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत, हार्दिक पटेल से मुलाक़ात भी कर चुके है। हालाँकि अभी तक हार्दिक ने कांग्रेस को समर्थन देने का एलान नही किया है।

लेकिन वह पूरे गुजरात में घूम घूम कर लोगों से भाजपा के विरोध में वोट देने की अपील ज़रूर कर रहे है। इसका मतलब साफ़ है की वह अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस को वोट देने की अपील कर रहे है। उधर कांग्रेस को अधिकारिक  तौर पर समर्थन देने के लिए हार्दिक पटेल ने 5 शर्तें रखी थी जिसमें से 4 को कांग्रेस मान चुकी है। आख़िरी शर्त पटेलो को आरक्षण देने की थी जिस पर कांग्रेस ने संविधान के अनुसार विचार करने की बात कही थी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यही नही इस मामले में कांग्रेस ने क़ानून के जानकार और अपने वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल को कोई फ़ॉर्म्युला तैयार करने को कहा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ कपिल सिब्बल ने पटेलो को आरक्षण देने का एक फ़ॉर्म्युला तैयार किया है। माना जा रहा है की इस फ़ॉर्म्युला पर हार्दिक पटेल भी सहमत है। इसलिए आज पाटिदर आरक्षण समिति के दिनेश भामडिया, ललित वसोया, मनोज पनारा और किरीट पटेल, कांग्रेस नेताओं के साथ मुलाक़ात करने दिल्ली पहुँचे है।

उम्मीद है कि आलाकमान से मंज़ूरी मिलने के बाद आज दोपहर बाद हार्दिक पटेल , कांग्रेस को समर्थन देने का एलान कर सकते है। हार्दिक का अधिकारिक तौर पर कांग्रेस को समर्थन करना भाजपा के लिए सरदर्द साबित हो सकता है। क्योंकि पटेल समुदाय को हमेशा से भाजपा का वोट बैंक माना जाता रहा है। इस बार अगर यह वोट बैंक कांग्रेस की तरफ गया तो भाजपा का वापिस सत्ता में लौटने का सपना, सपना ही रह सकता है।

Loading...