वस्तु एवं सेवा कर (GST) व्यवस्था को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि त्रुटिपूर्ण वस्तु एवं सेवा कर (GST) व्यवस्था को लागू करने के कारण रोजगार और व्यवसाय समाप्त हुए हैं.

जीएसटी पर कांग्रेस मुख्यालय में बैठक के दौरान मनमोहन सिंह ने कहा कि जीएसटी को गलत ढंग से लागू करने का अर्थव्यवस्था विशेषकर लघु एवं मझोले उद्योगों पर दुष्प्रभाव पड़ा है. जिसके कारण रोजगार और व्यवसाय समाप्त हुए हैं. बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपनी उस टिप्पणी को दोहराया कि नोटबंदी ‘गठित लूटपाट एवं कानूनी डाका’ है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, “नोटबंदी एक संगठित लूट थी और लूटे हुए धन को वैध बनाने का तरीका था, वहीं जीएसटी ने व्यापार समाप्त करने के अलावा लोगों की आजीविका को छीना है.”

वहीँ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि इन दोनों मुद्दों पर प्रधानमंत्री मोदी देश का मन नहीं समझ पा रहे हैं. उन्होंने हैरत जताई कि सरकार 8 नवंबर को नोटबंदी का एक वर्ष पूरा होने पर जश्न क्यों मना रही है.

राहुल ने कहा कि नोटबंदी के कारण लोग बुरी तरह परेशान हुए. उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था नोटबंदी के ‘टॉरपीडो’ को तो झेल गई, लेकिन वह जीएसटी को नहीं बर्दाश्त कर पाई.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?