केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने चुनावों से ठीक पहले देश के बहुसंख्यक हिन्दू समाज को भड़काने की कोशिश की है।उन्होने कहा, राम मंदिर का विरोध करने के बजाय समर्थन करे वरना उन्हे हिंदुओं के आक्रोश का सामना करना होगा और अंजाम भी भुगतना होगा।

गिरिराज ने रविवार को पटना में कहा कि भारत के मुसलमान प्रभु राम के वंशज हैं। वे मुगलों के वंशज नहीं हैं। इसलिए वे राम मंदिर का विरोध न करें और जो राम मंदिर का विरोध कर रहे हैं, वे भी समर्थन में आ जाएं, वरना उनसे हिंदू नाराज हो जाएंगे। मुस्लिमों से नफरत करने लगेंगे और अगर ‘ये नफरत ज्वाला में बदल गई तो मुस्लिम सोचें फिर क्या होगा।’ 

एक रैली को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने जनसख्या नियंत्रण कानून बनाने की मांग करते हुए कहा कि सरकार को अब 2 बच्चा कानून पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि समय रहते इसका इलाज हो जाना चाहिए वरना ये बीमारी लाइलाज हो जाएगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होने कहा कि देश के 54 जिलों में हिंदुओं की आबादी मुस्लिमों से नीचे पहुंच गई है। वहां पर उनकी आवाज दब गई है। इनमें उत्तर प्रदेश के 21 जिले शामिल हैं। यदि जातिवाद छोड़कर अभी नहीं संभले तो आने वाले सालों में देश के 250 जिलों में हिंदुओं की बोलती बंद हो जाएगी। उन पर पाकिस्तान जैसा अत्याचार होगा। उन्होंने कहा कि दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने वालों को मताधिकार और आर्थिक लाभ से वंचित करना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यक की परिभाषा बदली जाए। जहां पांच फीसद वहां भी अल्पसंख्यक और जहां 90-95 फीसद वहां भी अल्पसंख्यक, यह गलत है। मंत्री ने कहा कि सर्वधर्म सद्भाव सिखाना है तो मुस्लिमों को सिखाओ।

Loading...