गिरती जीडीपी को लेकर आलोचना का सामना कर रही मोदी सरकार की झारखंड से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने और परेशानी बढ़ा दी है। दरअसल, उन्होने जीडीपी के अस्तित्व पर ही सवाल उठा दिया।

जीडीपी के मुद्दे पर लोकसभा में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि जीडीपी 1934 में आई इससे पहले कोई जीडीपी नहीं थी… केवल जीडीपी को बाइबल, रामायण या महाभारत मान लेना सत्य नहीं है और भविष्य में जीडीपी का बहुत ज्यादा उपयोग नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि आज नई थ्योरी है आम आदमी का स्थायी आर्थिक कल्याण, हो रहा है या फिर नहीं हो रहा है। जीडीपी से ज्यादा महत्वपूर्ण है लोगों का सतत विकास। लोगों को खुशी मिल रही है या नहीं मिल रही है। निशिकांत ने इसके साथ ही कहा कि भविष्य में जीडीपी का कोई बहुत ज़्यादा उपयोग नहीं होगा।

निशिकांत दुबे के बयान पर सदन में जमकर हंगामा हुआ, निशिकांत दुबे पहले भी चर्चाओं में रह चुके हैं। इससे पहले सांसद निशिकांत दुबे कार्यकर्ता से पांव धुलवाने के मामले में विवादों में घिर गए थे। अपने संसदीय क्षेत्र में कनभारा पुल के शिलान्यास समारोह के दौरान कार्यकर्ता से पांव धुलवाने के मामले में भी विवादों में रहे थे।

बाद में वीडियो सोशल मीडिया में काफी वायरल हो गया था। खुद सांसद ने भी अपनी पैर धुलवाते हुए तस्वीर फेसबुक पर लगाई थी। कार्यकर्ता से पैर धुलवाने को लेकर जब विवाद बढ़ने लगा था तो सांसद ने इस मामले में राजनीति नहीं करने की हिदायत दी थी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन