पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान के सामने आने के बाद पीएम मोदी विपक्षी दलों के निशाने पर है। सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने इमरान खान के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले साल यह खबरें आई थीं कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहती है। अब इमरान खान ने भी अपनी इस चाहत का इजहार कर दिया है।

येचुरी ने ट्वीट करते हुए लिखा अब हम जानते हैं कि पाकिस्तान वास्तव में पीएम के रूप में किसे देखना चाहता है। एक ऐसे प्रधानमंत्री को जो बिना बुलाए पाकिस्तान गए। एकमात्र ऐसे भारतीय पीएम जिसने आइएसआइ को सैन्य अड्डे पर आमंत्रित किया है।

येचुरी ने कहा कि विदेशी सरकार जिस तरह से हमारी लोकतांत्रिक चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने की कोशिश कर रही है ये हमारे लिए गंभीर चिंता का विषय है। पिछले साल खबरें थी कि आइएसआइ चाहता है कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। अब पाकिस्तानी पीएम ऐसा बोल रहे हैं।

सीपीआइ नेता डी राजा ने पाक पीएम के बयान पर कहा कि भारत सरकार पर टिप्पणी करना उनका व्यवसाय नहीं है। उन्होंने कहा कि ये तय करना भारत की जनता के हाथ में है। इमरान खान कैसे बोल सकते हैं कि दूसरी पार्टियां शांति वार्ती का समर्थन नहीं करेंगी। अब इसपर तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही जवाब देना होगा की इमरान खान क्यों उनके लिए बैटिंग कर रहे हैं।

बता दें कि विदेशी पत्रकारों के साथ बातचीत में इमरान खान ने कहा कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो कश्मीर मुद्दे का कोई हल निकल सकता है। इमरान खान ने आगे यह भी कहा कि अगर कांग्रेस की सरकार सत्ता में आयी तो शायद शाति वार्ता मुमकिन नहीं होगा।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano