तीन तलाक पर कानून को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि तीन तलाक पर कानून तभी बनाया जाएगा जब सभी पक्षों में आम राय बन जाए.

नकवी ने पीटीआई से कहा, तीन तलाक एक गंभीर मुद्दा है. जो लोग गंभीर नहीं हैं, उन्हें इस पर चल रहे सकारात्मक, रचनात्मक वाद-विवाद को बर्बाद नहीं करना चाहिए. बाहर से नहीं, बल्कि समुदाय के भीतर से ही सुधार की शुरूआत होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि समाज के अलग-अलग तबकों से तीन तलाक पर सुझाव आ रहे हैं और सभी पक्षों से चर्चा चल रही है. नकवी ने कहा, कुछ लोग समर्थन कर रहे हैं जबकि कुछ लोग विरोध कर रहे हैं. यह सब स्वस्थ लोकतंत्र का हिस्सा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

केंद्रीय मंत्री ने कहा, जहां तक सरकार का सवाल है, हम तीन तलाक पर कोई भी कानून बनाने से पहले आम सहमति का इंतजार करेंगे. यह अचानक नहीं होगा. प्रक्रिया जारी है. उन्होंने कहा, सरकार जो कुछ करेगी, संविधान के दायरे में करेगी, लेकिन तीन तलाक पर आम सहमति बनाना हमारे लिए प्राथमिकता है.

Loading...